Breaking News

कोरोना दुनिया में:WHO ने एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन को इमरजेंसी अप्रूवल दिया, इसी के 8.7 लाख डोज की पहली खेप भारत से मैक्सिको पहुंची

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन ने एस्ट्राजेनेका और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की बनाई कोरोना वैक्सीन के इमरजेंसी यूज की मंजूरी दे दी है। इससे यूनाइटेड नेशंस के सपोर्ट वाले प्रोग्राम कोवैक्स के तहत कई देशों में लाखों डोज भेजने का रास्ता साफ हो गया है।

UN की हेल्थ एजेंसी ने सोमवार को बताया कि उसने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया और दक्षिण कोरिया की एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन को अप्रूव कर दिया है। WHO से ग्रीन सिग्नल मिलने के बाद कोवैक्स प्रोग्राम को मजबूती मिलने की उम्मीद है। इसके जरिए दुनिया के कमजोर देशों को वैक्सीन सप्लाई की जानी है।

उधर, भारत में बनी एस्ट्राजेनेका-ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन की पहली खेप रविवार को मैक्सिको पहुंची। मैक्सिको की सरकार ने बताया कि पहले खेप में 8.7 लाख डोज मंगाए गए हैं। मैक्सिको का भारत से कुल 20 लाख डोज मंगाने का प्लान है।

मैक्सिको ब्राजील के बाद भारत से वैक्सीन पाने वाला दूसरा लैटिन अमेरिकी देश है। मैक्सिको कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित देशों में शामिल है। यहां अब तक 19.92 लाख मरीज मिल चुके हैं। इनमें से 1.74 लाख मरीजों की मौत हुई है। मौतों के मामले में यह देश अमेरिका और ब्राजील के बाद तीसरे नंबर पर है।

मैक्सिको और अर्जेंटीना ने लैटिन अमेरिका में डिस्ट्रीब्यूशन के लिए वैक्सीन के 25 करोड़ डोज के लिए एस्ट्राजेनेका के साथ समझौता किया है। मैक्सिकन अरबपति कार्लोस स्लिम इसके लिए मदद कर रहे हैं। यहां दिसंबर में हेल्थकेयर वर्कर्स का वैक्सीनेशन शुरू हुआ था। फाइजर की वैक्सीन की कमी और सप्लाई में देरी की वजह से इसका टारगेट पूरा नहीं हो सका।

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, देश में अब तक सिर्फ 16.36 लाख डोज मिले हैं। इसके लिए चीन की कैन्सिनो और रूस की स्पुतनिक V के लिए एग्रीमेंट किया गया है।

अब तक 10.95 करोड़ केस
दुनिया में अभी कोरोना के 10.95 करोड़ केस आ चुके हैं। इनमें से 8.16 करोड़ मरीज ठीक हो चुके हैं। 24.13 लाख लोगों की जान जा चुकी है। सबसे ज्यादा प्रभावित अमेरिका में रविवार को कुल 64,297 नए मरीज मिले और 1,111 लोगों की मौत हो गई। यहां अब तक 2.82 करोड़ लोग संक्रमित हो चुके हैं। 1.82 करोड़ लोग ठीक हुए हैं, जबकि 4.97 लाख संक्रमितों ने जान गंवाई है।

तुर्की में अगले हफ्ते से टीचर्स का वैक्सीनेशन होगा
तुर्की के एजुकेशन मिनिस्टर जिया सेल्कुक ने सोमवार को बताया कि देश में अगले हफ्ते से टीचर्स को कोरोना की वैक्सीन लगाई जाएगी। उन्होंने कहा कि उनके मंत्रालय ने टीचर्स की सूची हेल्थ मिनिस्ट्री को सौंप दी है। अब उनका नाम वैक्सीनेशन सिस्टम में रजिस्टर किया जा रहा है।

तुर्की में 14 जनवरी को चीन की सिनोवैक वैक्सीन से मास वैक्सीनेशन शुरू किया था। यहां अब तक 41 लाख से ज्यादा लोगों को टीका लगाया जा चुका है।

प्रातिक्रिया दे