Breaking News

Global Warming के खिलाफ बनेगी रणनीति: Biden ने PM Modi सहित दुनिया के 40 नेताओं को किया आमंत्रित

वॉशिंगटन: ग्लोबल वार्मिंग (Global Warming) को लेकर पूरी दुनिया चिंतित है. मौसम का लगातार बदलता मिजाज चेतावनी दे रहा है कि यदि जल्दी इस विषय पर ध्यान नहीं दिया गया, तो हालात बद से बदतर हो जाएंगे. हालांकि, एक अच्छी बात ये है कि अब तमाम देश इस समस्या को गंभीरता से लेने लगे हैं. अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden) द्वारा वैश्विक जलवायु चर्चा का आयोजन किया जा रहा है. इसके लिए भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) को भी न्योता भेजा गया है.

Russia, China के राष्ट्रपति भी होंगे शामिल

बाइडेन प्रशासन अपनी पहली वैश्विक जलवायु चर्चा के लिए पूरी तरह से तैयार है. आयोजन में शामिल होने के लिए पीएम मोदी (PM Modi) सहित 40 वैश्विक नेताओं को आमंत्रित किया गया है. बताया जा रहा है कि रूसी राष्ट्रपति व्लादीमीर पुतिन और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग भी आयोजन का हिस्सा होंगे. अमेरिकी राष्ट्रपति कार्यालय द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि समिट 22 और 23 अप्रैल को आयोजित की जाएगी.

ये भी पढ़ें -Uygur Muslims पर आपस में भिड़े China-Britain, एक-दूजे के अफसरों और संगठनों पर लगाया बैन

PM Modi के अनुभव का मिलेगा फायदा

माना जा रहा है कि क्लाइमेट ऑन लीडर्स समिट में अमेरिका कुछ बड़े निर्णय ले सकता है. इस दौरान, अमेरिका जीवाश्म ईंधन से होने वाले जलवायु प्रदूषण को कम करने के लिए अहम कदम उठा सकता है. राष्ट्रपति जो बाइडेन ये स्पष्ट कर चुके हैं कि जलवायु परिवर्तन के खिलाफ कारगर रणनीति बनाना भी उनकी प्राथमिकताओं में शुमार है. बाइडेन यह भी अच्छे से समझते हैं कि पर्यावरण संरक्षण में भारत ने काफी अच्छा काम किया है. इसलिए पीएम मोदी को न्यौता भेजा गया है, ताकि उनके अनुभव का लाभ उठाया जा सके.

Boris Johnson ने भी की थी तारीफ

कुछ वक्त पहले ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन (Boris Johnson) ने जलवायु परिवर्तन (Global Warming) के मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) की जमकर तारीफ की थी. जॉनसन ने कहा था कि ग्लोबल वार्मिंग से जंग में पीएम मोदी के नेतृत्व में भारत ने कई अहम कदम उठाए हैं. आपदा प्रतिरोधक आधारभूत ढांचा पर अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन (ICDRI) को संबोधित करते हुए जॉनसन ने इसकी मेजबानी करने को लेकर पीएम मोदी का शुक्रिया अदा किया था. इस दौरान, उन्होंने जलवायु परिवर्तन के खिलाफ वैश्विक लड़ाई में नवीकरणीय ऊर्जा जैसे क्षेत्रों में शानदार नेतृत्व को लेकर प्रधानमंत्री मोदी की सराहना की थी और साथ ही भारत के नेतृत्व में तथा ब्रिटेन की सह-अध्यक्षता में ICDRI की उत्कृष्ट पहल का स्वागत किया था