Breaking News

न्यूयॉर्क एयरपोर्ट पर खड़ा धूल खा रहा ट्रंप का बोइंग 757, 24 कैरेट सोने से बनी हैं सीट बेल्ट्स

डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) की वर्तमान वित्तीय स्थिति को सार्वजनिक नहीं किया गया है लेकिन कोरोना महामारी ने उनके कई उद्योगों को प्रभावित किया है.

डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) का पर्सनल बोइंग 757 (Boeing 757) हमेशा शान में चार चांद लगाता रहा है. उन्होंने इसका इस्तेमाल फोटो शूट, चुनाव प्रचार, वीआईपी टूर के लिए किया. ट्रंप को अपनी संपत्ति का दिखावा करने के लिए जाना जाता है. उनके इस विमान में क्रीम कलर की लेदर की सीटें, सोने का पानी चढ़ा हुआ बाथरूम और 24 कैरेट सोने के सीट बक्कल्स मौजूद हैं. ट्रंप का ये आलीशान विमान आज मैनहैटन के उत्तर में करीब 60 मील की दूरी पर न्यूयॉर्क के ऑरेंज काउंटी के एक एयरपोर्ट पर खाली खड़ा है.

एक इंजन के हिस्से गायब हो चुके हैं जबकि दूसरे प्लास्टिक में लिपटे हैं. इसकी मरम्मत और दोबारा इसे उड़ान भरने योग्य बनाने के लिए बड़ी रकम की जरूरत होगी, जो फिलहाल ट्रंप खर्च करने के मूड में नहीं हैं. हालांकि उनकी वर्तमान वित्तीय स्थिति को सार्वजनिक नहीं किया गया है लेकिन कोरोना महामारी ने उनके कई उद्योगों को प्रभावित किया है. सीएनएन के उड़ान रिकॉर्ड्स के मुताबिक 757 विमान ने बाइडेन की शपथ ग्रहण के बाद से एक भी उड़ान नहीं भरी है. जो बाइडेन की शपथ ग्रहण के बाद ट्रंप सार्वजनिक जीवन और यात्राओं से दूर हो गए हैं.

प्रतिनिधि ने नहीं की टिप्पणी

ट्रंप ऑर्गनाइजेशन के एक प्रतिनिधि ने सीएनएन की ओर से पूछे गए सवालों पर कोई टिप्पणी नहीं की है. उनसे पूछा गया कि विमान का इस्तेमाल क्यों नहीं किया जा रहा है और इसकी मरम्मत क्यों नहीं कराई जा रही है और ट्रंप एक बार फिर इसमें उड़ान भर सकते हैं या नहीं? सीएनएन के कैमरामैन ने बुधवार को ट्रंप के विमान को ‘ट्रंप टावर’ से करीब आधे-एक घंटे की दूरी पर न्यूयॉर्क एयरपोर्ट पर खड़ा देखा. विशेषज्ञों का कहना है कि खुले आसमान के नीचे विमान के खड़े होने से इसके इंजन की धातु को नुकसान पहुंच सकता है.

ट्रंप नहीं मान रहे थे हार

पिछले साल 3 नवंबर को हुए चुनाव में हार मिलने के बाद ट्रंप ने हार मानने से इनकार दिया था. उन्होंने चुनावों में धांधली का आरोप लगाते हुए कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था, जहां से उन्हें निराशा का सामना करना पड़ा. ट्रंप समर्थकों द्वारा 6 जनवरी को कैपिटल हिल पर हमले के बाद पूर्व राष्ट्रपति को महाभियोग का भी सामना करना पड़ा था. उन पर भीड़ को उकसाने के आरोप लगे थे.

प्रातिक्रिया दे