Breaking News

2020 में अमेरिका में 47 फीसद विदेशी छात्र चीन और भारत के थे, कोरोना महामारी के बावजूद मामूली गिरावट

वाशिंगटन, पीटीआइ। अमेरिका में 2020 में पढ़ाई कर रहे विदेशी छात्रों में से 47 फीसद चीनी और भारतीय विद्यार्थी थे।  नवीनतम आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, कोरोना महामारी के कारण विदेशी छात्रों के एडमिशन में गिरावट देखने को मिली है। हालांकि, चीनी और भारतीय छात्रों पर इसका ज्यादा असर नहीं पड़ा है। पिछले साल विदेशी छात्रों में से चीनी और भारतीय विद्यार्थियों का आंकड़ा 48 फीसद था। स्टूडेंट एंड एक्सचेंज विजिटर प्रोग्राम (SEVP) द्वारा जारी वार्षिक रिपोर्ट में कहा गया है कि यूएस इमिग्रेशन एंड कस्टम्स इंफोर्समेंट (ICE) के तहत आने वाले विद्यार्थियों पर जानकारी रखने वाली वेब आधारित प्रणाली सेविस के रिकॉर्ड के अनुसार साल 2020 के दौरान F-1 और M-1 छात्रों की संख्या 12 लाख 50 हजार थी। इसमें साल 2019 के मुकाबले 17.86 फीसद कमी आई। 

एफ 1 वीजा अमेरिकी कॉलेज या विश्वविद्यालय में किसी शैक्षणिक कार्यक्रम या अंग्रेजी भाषा के कार्यक्रम में भाग ले रहे अंतरराष्ट्रीय छात्रों को जारी किया जाता है। वहीं एम -1 वीजा व्यावसायिक संस्थानों तथा तकनीकी संस्थानों में पढ़ने वाले विदेशी छात्रों के लिए होता है। रिपोर्ट के अनुसार अमेरिकी स्कूलों में 2019 की तुलना में 2020 में नए अंतरराष्ट्रीय छात्रों के एडमिशन में 72 प्रतिशत की कमी आई है। 

नए अंतरराष्ट्रीय  छात्रों में वे शामिल हैं जिन्होंने पिछले साल दौरान किसी शैक्षणिक कार्यक्रम एडमिशन नहीं लिया था। अगस्त 2020 में, नए एफ -1 अंतरराष्ट्रीय छात्रों के एडमिशन में 91 प्रतिशत की कमी और अमेरिकी स्कूलों में नए एम -1 अंतरराष्ट्रीय छात्रों एडमिशन में 72 प्रतिशत की कमी आई। सेविस की रिपोर्ट के अनुसार, चीन के सबसे ज्यादा 382,561 छात्र थे, उसके बाद भारत के 207,460 छात्र थे। दक्षिण कोरिया (68,217), सऊदी अरब (38,039), कनाडा (35,508) और ब्राजील (34,892) छात्र थे। 

भारतीय छात्रों में 35 फीसद महिलाएं और 65 फीसद पुरुष हैं। वहीं चीन के 47 फीसद महिलाएं हैं और  53 फीसद पुरुष हैं। साल 2020 में नागरिकता वाले शीर्ष 10 देशों में, औसत महिला नामांकन 44 प्रतिशत (386,851) और औसत पुरुष नामांकन 56 प्रतिशत (484,103) रहा। सेविस के अनुसार, कोरोना के प्रकोप ने  अमेरिका में 2020 में अंतरराष्ट्रीय  छात्रों के एडमिशन को प्रभावित किया।

प्रातिक्रिया दे