Breaking News

अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडन ने बिल नेल्सन को नासा का प्रशासक किया मनोनीत

वाशिंगटन, एएनआइ। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने शुक्रवार को बिल नेल्सन को नासा का प्रशासक मनोनीत करने का एलान किया। व्हाइट हाउस द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है कि नेल्सन का परिवार 1829 में फ्लोरिडा आया था। उन्होंने चार दशकों से अधिक समय तक सरकारी कार्यालय में काम किया है। पहले उन्होंने राज्य विधायिका और अमेरिकी कांग्रेस में और फिर स्टेट ट्रेजरर के रूप में काम किया। तीन बार उन्हें अमेरिकी सीनेट के लिए चुना गया। अमेरिका के तीसरे सबसे बड़े राज्य का उन्होंने 18 वर्षों तक प्रतिनिधित्व किया।

भारत के साथ रक्षा संबंधों को मजबूती देने अमेरिका के रक्षा मंत्री आस्टिन भारत पहुंचे

राष्ट्रपति जो बाइडन के सत्ता संभालने के बाद भारत के साथ रक्षा संबंधों को मजबूती देने अमेरिका के रक्षा मंत्री लायड आस्टिन भारत पहुंच गए हैं। भारत पहुंचते ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ([एनएसए)] अजीत डोभाल से मुलाकात यह दिखाने के लिए काफी है कि डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन ने दोनों देशों के रिश्तों को जहां छो़़डा था, बाइडन प्रशासन वहीं से आगे ब़़ढेगा। आस्टिन शनिवार को रक्षा मंत्री राजनाथ ¨सह से मुलाकात करेंगे। इसमें भारत-अमेरिका के रणनीतिक और सामरिक रिश्तों को नई दिशा देने पर मंत्रणा होगी। इस दौरान चीन की ब़़ढती उग्रता पर भी बातचीत होने की संभावना है। साथ ही दोनों देशों के रक्षा खरीद से जु़़डे मसलों और रूस से एस-400 मिसाइल सिस्टम को लेकर अमेरिकी आपत्ति पर भी खुली चर्चा की उम्मीद की जा रही है।

बाइडन के सत्ता संभालने के बाद भारत की यात्रा करने वाले पहले वरिष्ठ अमेरिकी राजनयिक

राष्ट्रपति जो बाइडन के सत्ता संभालने के बाद भारत की यात्रा करने वाले पहले वरिष्ठ अमेरिकी राजनयिक ऑस्टिन की दो दिन की यात्रा कूटनीतिक मुलाकातों और चर्चाओं के लिहाज से काफी व्यस्त रहेगी। पहले ही दिन पीएम मोदी और एनएसए डोभाल से उनकी मुलाकात के गहरे मायने हैं। 12 मार्च को क्वाड के तहत अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडन, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, जापानी पीएम योशिहिदे सुगा और आस्ट्रेलियाई पीएम स्कॉट मारीसन की वर्चुअल शिखर बैठक के बाद यह चर्चा और अहम हो गई है। चीन क्वाड को अपनी घेरेबंदी के रूप में देख रहा है। वहीं बाइडन ने सत्ता संभालते ही क्वाड देशों के बीच रणनीतिक और सामरिक साझेदारी को प्रमुखता देने की अपनी मंशा स्पष्ट कर दी थी।

प्रातिक्रिया दे