Breaking News

Coronavirus World Update : डब्ल्यूएचओ ने कोरोना महामारी के और भयानक होने की आशंका जताईएक, सप्ताह में महामारी से जान गंवाने वालों की तादाद एक लाख से अधिक हो सकती हैं

जिनेवा । विश्व स्वास्थ्‍य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कोरोना महामारी के और भयानक होने की आशंका जताई है। संगठन का कहना है कि बहुत जल्द एक सप्ताह में महामारी से जान गंवाने वालों की तादाद एक लाख से अधिक हो जाएगी। पिछले सप्ताह महामारी से एक सप्ताह में 93 हजार से अधिक लोगों की जान गई थी। डब्ल्यूएचओ के आपातकालीन विशेषज्ञ माइक रयान ने सोमवार को कहा कि भविष्य में होने वाली मौतों में से 47 फीसद अकेले अमेरिकी रीजन में होंगी। उधर, दुनियाभर में कोरोना मरीजों की तादाद साढ़े नौ करोड़ से ज्यादा हो गई है। वहीं मृतकों की संख्या 20 लाख से ज्यादा हो गई है। महामारी से सबसे ज्यादा अमेरिका प्रभावित है जहां पर दो करोड़ 39 लाख लोग बीमार हैं वहीं तीन लाख 97 हजार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।

कैलिफोर्निया में मॉर्डना की वैक्सीन रोकी गई

एलर्जी की समस्या सामने आने के बाद अमेरिका के कैलिफोर्निया प्रांत में मॉर्डना की वैक्सीन लगाए जाने का काम रोक दिया गया है। जिन लोगों को यह वैक्सीन लगाई गई थी, उनमें से 10 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा है। बयान में कहा गया है कि इस महीने की शुरुआत में इस विशेष बैच की 3,30,000 से अधिक खुराक को 287 स्वास्थ केंद्रों में पहुंचाई गई थी और एफडीए व सीडीसी इस बैच की समीक्षा कर रहा है। उधर, कैलिफोर्निया में मरीजों की तादाद 30 लाख से ज्यादा हो गई है। पिछले चौबीस घंटों में 32,904 नए मामले सामने आए हैं वहीं 418 लोगों की मौत हुई है।

20 फीसद बढ़ जाएगा टीके का प्रभाव 

चीन की साइनोवैक बायोटेक ने सोमवार को कहा कि अगर उसकी कोरोना वैक्सीन का इस्तेमाल ज्यादा समय के अंतराल में किया जाए तो उसका प्रभाव 20 फीसद बढ़ जाता है। उधर, चीन में लगातार छठे दिन 100 से ज्यादा मामले सामने आए हैं। ग्लोबल टाइम्स अखबार के मुताबिक हेबई प्रांत के 11 रीजन में लॉकडाउन लगाने के साथ ही बड़े पैमाने पर टेस्टिंग प्रोग्राम चल रहा है।

इसे भी जानें

-फिलीपींस में कोरोना मरीजों की तादाद पांच लाख से ज्यादा हो गई है। अब तक वहां 9,895 लोगों की मौत हो चुकी है।

-रूस में 22,857 नए मरीज मिले हैं। एक दिन पहले यह संख्या 23,586 थी।

-ब्रिटेन की नेशनल हेल्थ सर्विस ने कहा कि टीकाकरण के अगले चरण में ऐसे लोगों को प्राथमिकता दी जाएगी, जिनकी उम्र 70 वर्ष से अधिक है या फिर उन्हें कोरोना होने का सबसे ज्यादा खतरा है।

प्रातिक्रिया दे