Breaking News

रिश्ते बहाल करना चाहता है पाकिस्तान, कुरैशी ने कहा- बातचीत के लिए माहौल बनाने की जिम्मेदारी भारत की

कुरैशी ने कहा कि इमरान खान (Imran Khan) के सत्ता में आने के बाद उन्होंने कहा था कि अगर पड़ोसी देश (भारत) एक कदम आगे बढ़ेगा तो पाकिस्तान दो कदम बढ़ाएगा.

Shah Mahmood Qureshi on India-Pakistan Talks: पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी (Shah Mahmood Qureshi) ने शुक्रवार को कहा है कि पाकिस्तान के साथ बातचीत के लिए माहौल तैयार करने की जिम्मेदारी भारत की है. विदेश मंत्री द्वारा जारी बयान (Pakistan on Talks With India) में कहा गया है, ‘अगर भारत अपनी नीति की समीक्षा करता है और कश्मीर विवाद सहित अन्य मुद्दों पर शांतिपूर्ण समाधान के लिए तत्परता व्यक्त करता है तो पाकिस्तान बातचीत करने से परहेज नहीं करेगा.’

कुरैशी ने कहा कि प्रधानमंत्री इमरान खान (PM Imran Khan) के सत्ता में आने के बाद उन्होंने कहा था कि अगर पड़ोसी देश (भारत) एक कदम आगे बढ़ेगा तो पाकिस्तान शांति की ओर दो कदम बढ़ाएगा. कुरैशी ने दोनों देशों के बीच दोबारा लागू हुए सीजफायर समझौते (Ceasefire Agreement) को एक सकारात्मक कदम बताया है. इससे पहले गुरुवार को सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा (General Qamar Javed Bajwa) इस्लामाबाद में इस्लामाबाद डायलॉग नाम के आयोजन में कई आंतरिक और बाहरी मुद्दों पर बोले थे.

बाजवा- क्षमता बंधक बनी हुई है

बाजवा ने कहा था, भारत-पाक के संबंधों (Indo-Pak Relations) के स्थिर होने से ही पूर्व और पश्चिम एशिया के बीच कनेक्टिविटी सुनिश्चित हो पाएगी. इसके जरिए ही दक्षिण और मध्य एशिया की क्षमता अनलॉक हो पाएगी. बाजवा ने कहा, यह क्षमता हमेशा से दो परमाणु हथियारों (Nuclear Weapons) से लैस पड़ोसियों के बीच विवादों और अनसुलझे मुद्दों के कारण बंधक बनी हुई है. बाजवा का शांति की बात करने वाला ये बयान ऐसे समय पर आया, जब एक दिन पहले ही प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा था कि पाकिस्तान के साथ रिश्तों को सामान्य बनाने के लिए भारत को पहले कदम बढ़ाना होगा.

‘अतीत को दफन कर आगे बढ़ने का वक्त’

पाकिस्तानी सेना प्रमुख ने कश्मीर का राग अलापते हुए कहा, कश्मीर का मुद्दा सबसे अहम है. ये समझना जरूरी है कि शांतिपूर्ण तरीकों के माध्यम से कश्मीर मुद्दे का जब तक हल नहीं हो जाता है. तब तक इस क्षेत्र में शांति की कोई भी पहल सफल नहीं हो पाएगी (Bajwa on India-Pakistan Talks). बाजवा ने कहा, हमें लगता है कि ये समय है जब हमें अतीत को दफन कर आगे बढ़ना चाहिए. हमारे पड़ोसी मुल्क को कश्मीर में एक अनुकूल वातावरण बनाने की जरूरत है. दुनिया ने विश्व युद्ध और शीत युद्ध का कहर देखा है. इसमें किस तरह मानवता के खिलाफ कहर बरसाया गया इससे सब वाकिफ हैं.

प्रातिक्रिया दे