Breaking News

उत्तर कोरिया की धमकी पर आया अमेरिका का जवाब, रक्षा मंत्री ने कहा- हम आज रात युद्ध के लिए तैयार

उत्तर कोरिया (North Korea) ने कहा था कि अमेरिका और दक्षिण कोरिया के बीच चलने वाला अभ्यास एक हमले से पहले होने वाली रिहर्सल है.

US Ready to Fight With North Korea Says Lloyd Austin: अमेरिकी रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन (Lloyd Austin) ने उत्तर कोरिया (North Korea) की धमकी के जवाब में कहा है कि अमेरिका युद्ध के लिए तैयार है. उत्तर कोरिया ने अमेरिका और दक्षिण कोरिया के बीच चलने वाले सैन्य अभ्यास की निंदा की थी. इस दौरान तानाशाह किम जोंग उन (Kim Jong Un) की बहन किम यो जोंग ने चेतावनी देते हुए कहा था कि अगर वे (अमेरिका) चार साल शांति से सोना चाहते हैं तो भड़कावे वाले कदमों से दूर रहें. जोंग के बयान के समय ऑस्टिन और विदेश मंत्री एंटोनी ब्लिंकन जापान और दक्षिण कोरिया के दौर के लिए टोक्यो पहुंचे थे.

प्रेस टीवी की रिपोर्ट के अनुसार, एक प्रेस वार्ता में ऑस्टिन ने कहा, ‘हमारा सुरक्षा बल आज रात लड़ने के लिए तैयार है और हम कमांड (दक्षिण कोरिया) में वॉरटाइम ऑपरेशनल कंट्रोल पर काम करना जारी रखेंगे.’ किम यो जोंग (Kim Yo Jong) अपने भाई किम जोंग की प्रमुख सलाहकार हैं. उन्होंने अमेरिका-दक्षिण कोरिया (US-North Korea) के सालाना सैन्य अभ्यास की निंदा की थी, जो इसी महीने शुरू हुआ था. जोंग ने कहा था कि ‘युद्ध अभ्यास और शत्रुता कभी भी बातचीत और सहयोग के साथ नहीं चल सकते हैं (US North Korea Sanctions).’

‘हमले से पहले की रिहर्सल’

उत्तर कोरिया ने कहा कि अमेरिका और दक्षिण कोरिया के बीच चलने वाला ये अभ्यास एक हमले से पहले होने वाली रिहर्सल है. बीते साल ये अभ्यास कोरोना वायरस महामारी के कारण रद्द कर दिया गया था. उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया के बीच आज भी वैसी ही स्थिति बनी हुई है, जैसी 1953 के युद्ध (1953 War) के दौरान थी. इनका युद्ध एक संघर्ष के साथ समाप्त हुआ था ना कि किसी शांति संधि के साथ. जनवरी 2018 की शुरुआत में दोनों देश एक दूसरे की ओर तालमेल के लिए बढ़े भी थे. लेकिन फिर भी समस्या ऐसे ही बनी रही.

तीन बार मिले थे किम-ट्रंप

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने किम जोंग उन (Donald Trump Kim Jong un Meeting) के साथ तीन बार मुलाकात की थी, लेकिन उन्होंने उत्तर कोरिया की उस मांग को नहीं माना था, जिसमें उसने परमाणु कार्यक्रम रोकने के बदले उसपर लगे प्रतिबंध हटाने को कहा था. उत्तर कोरिया संयुक्त राष्ट्र और अमेरिका के प्रति शत्रुतापूर्व रवैया अपनाए हुए है क्योंकि इन्होंने उसपर परमाणु और मिसाइल कार्यक्रम पर काम करने के कारण प्रतिबंध लगाए हुए हैं. अभी तक जो बाइेडन ने सत्ता में आने के बाद उत्तर कोरिया को लेकर अपने प्रशासन की निति (US North Korea Policy) को स्पष्ट नहीं किया है. लेकिन ऐसा माना जा रहा है कि वो भी ट्रंप प्रशासन की राह पर ही चल सकते हैं.

प्रातिक्रिया दे