Breaking News

इजरायल चुनाव: दोबारा सरकार बनाना नेतन्याहू के लिए होगा बेहद मुश्किल, छोटे दलों के हाथों में है ‘सत्ता की चाबी’

आगामी मंगलवार को इजरायल (Israel) में चुनाव होने वाले हैं, जो दो साल से भी कम समय में चौथे चुनाव होंगे. इस बार बेंजामिन नेतन्याहू (Benjamin Netanyahu) की किस्मत छोटे दलों के हाथों में टिकी हुई है.

इजरायल (Israel) में इस बार होने वाले चुनाव में प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू (Benjamin Netanyahu) की किस्मत छोटे दलों के हाथों में टिकी हुई है. देश के मीडिया संस्थानों की ओर से शुक्रवार को जारी किए गए चुनाव पूर्वानुमान इस बात की ओर इशारा कर रहे हैं. ऐसे में इस बार नेतन्याहू के लिए इजरायल की सत्ता तक पहुंचना कठिन होने वाला है. नेतन्याहू को उस पूर्व सहयोगी दल के भरोसे भी रहना होगा, जिसने उनकी जमकर आलोचना की थी. हालांकि, इस दल ने गठबंधन में शामिल होने से इनकार भी नहीं किया था.

आगामी मंगलवार को इजरायल में चुनाव होने हैं, जो दो साल से भी कम समय में चौथे चुनाव होंगे. इसे नेतन्याहू पर एक जनमत संग्रह के तौर पर भी देखा जा रहा है. उन्होंने दुनिया के सबसे सफल कोरोना वायरस टीकाकरण अभियान में से एक का नेतृत्व किया है. हालांकि, नेतन्याहू पर लगे भ्रष्टाचार के आरोप उनकी छवि को धूमिल करने का काम कर सकते हैं. भ्रष्टाचार के आरोप में घिरे होने के चलते लोगों के बीच उन्हें दोबारा सत्ता हासिल करने में कठिनाई का सामना करना पड़ सकता है.

नेतन्याहू की पार्टी के खाते में आ सकती हैं 30 सीटें

इजरायली मीडिया संस्थानों के पूर्वानुमानों के मुताबिक नेतन्याहू की लिकुड पार्टी (Likud party) 120 सदस्यीय संसद में 30 सीटें जीत सकती है. लेकिन उसके गठबंधन सहयोगियों के महज 50 सीटें जीतने का अनुमान है. वहीं दूसरी ओर, वैचारिक रूप से अलग दल जो नेतन्याहू को पद से हटाना चाहते हैं. उन सबके पास कुल मिलाकर 56-60 सीटें आ सकती हैं, जो बहुमत से कुछ ही कम है. नेतन्याहू विरोधी सबसे बड़ा दल येश अतिद पार्टी (Yesh Atid party) 20 सीटें जीत सकता है.

नेतन्याहू को पूर्व सहयोगी का मिल सकता है सहारा

हालांकि, नेतन्याहू की पूर्व सहयोगी नफताली बेनेट (Naftali Bennett) की यामिना पार्टी किंगमेकर की भूमिका में आ सकती है. इस पार्टी के दस सीटें जीतने का अनुमान है और उसने किसी भी गठबंधन में शामिल होने से इनकार नहीं किया है. कुछ और भी दल हैं जो महत्वपूर्ण साबित हो सकते हैं. कुल मिलाकर किसी भी गठबंधन का जरा सा अच्छा या जरा सा खराब प्रदर्शन राजनीतिक समीकरणों को बदल सकता है. मतदान केंद्रों के बंद होने के बाद इजरायल का मुख्य प्रसारणकर्ता अनाधिकारिक एग्जिट पोल जारी करेगा.

प्रातिक्रिया दे