Breaking News

हर रोज दो मिनट पहले ही दफ्तर से निकल जाते थे सरकारी कर्मचारी, जुर्माने के रूप में कटी मोटी सैलरी

दुनिया की कई कंपनियों में अपने कर्मचारियों को बहुत ही सुविधाएं मुहैया कराई जाती हैं. वहीं, कई कंपनियां ऐसी भी हैं, जो कर्मचारियों द्वारा नियमों को तोड़ने पर उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करती हैं. लेकिन सरकारी कर्मचारियों को इस तरह के दंड दिए जाने के मामले अपवाद ही नजर आते हैं. दूसरी ओर, अगर कोई सरकारी कर्मचारी अपने समय से दो मिनट पहले दफ्तर से निकल जाए तो उसकी सैलरी कटने के मामले का भी अपवाद ही है. लेकिन एक ऐसा ही मामला जापान में सामने आया है, जहां कई कर्मचारियों की सैलरी काटी गई है.

जापान (Japan) के एक सरकारी कार्यालय में समय से दो मिनट पहले निकलने पर कई कर्मचारियों की सैलरी काटी गई है. जापान टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक, चीबा प्रांत के फुनाबाशी सिटी बोर्ड ऑफ एजुकेशन (Funabashi City Board of Education in Chiba) ने इसने समय से दो मिनट पहले दफ्तर छोड़ने वाले कर्मचारियों की सैलरी काटकर उन्हें अनुशासित किया है. सांकेई न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, कर्मचारी अपना जाने का समय 5.15 बजे रिकॉर्ड करते थे, जबकि वे इससे दो मिनट पहले यानी कि 5.13 बजे दफ्तर से निकल जाया करते थे.

कर्मचारियों ने बताया क्यों निकलते थे जल्दी

बोर्ड ऑफ एजुकेशन के मुताबिक, कर्मचारियों ने बताया कि वह दफ्तर से दो मिनट पहले इसलिए निकलते थे, क्योंकि उन्हें 5.17 बजे वाली बस पकड़नी होती थी. अगर वे इस बस को नहीं पकड़ पाते हैं तो उन्हें अगली बस के लिए करीब आधा घंटा इंतजार करना पड़ता. अटेंडेंस मैनेजमेंट की प्रमुख 59 वर्षीय महिला कर्मचारी पर आरोप लगा है कि वह इन कर्मचारियों की मदद करती थी. वह इन कर्मचारियों की गलत अटेंडेंस को रिकॉर्ड किया करती थी. इसके लिए उनकी अगले तीन महीने की सैलरी में से 10 फीसदी जुर्माने के रूप में काटा जाएगा.

समय की पाबंदी पर अधिक जोर देता है जापानी समाज

दो अन्य कर्मचारियों को लिखित चेतावनी दी गई है, जबकि चार अन्य को कड़ी चेतावनी दी गई है. जापान में दफ्तर समय की पाबंदी पर बहुत ज्यादा जोर देते हैं. ऐसे में कर्मचारियों से उम्मीद की जाती है कि वे समय पर दफ्तर पहुंचे. गौरतलब है कि जापान के राष्ट्रीय रेलवे ने ट्रेन के कुछ सेकेंड पहले स्टेशन छोड़ने पर आधिकारिक रूप से माफी मांगी थी. ऐसे में अंदाजा लगाया जा सकता है कि जापानी समाज समय की पाबंदी को लेकर कितना सख्त है.

प्रातिक्रिया दे