Breaking News

Pakistan: सरकार बनने के बाद से पांचवीं बार कैबिनेट में फेरबदल करेंगे इमरान, इन दो लोगों को सौंप सकते हैं अहम पद

Pakistan PM Imran Khan May Reshuffle Federal Cabinet: पाकिस्तान (Pakistan) के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने फैसला लिया है कि वह कैबिनेट में फेरबदल करेंगे. इस बात की जानकारी बुधवार को स्थानीय न्यूज चैनल जियो न्यूज ने सूत्रों के हवाले से दी है. सत्ता में आने के बाद से ही पीटीआई (Pakistan Tehreek-e-Insaf) सरकार ने कई बार इस तरह का फेरबदल किया है. सूत्रों का कहना है कि प्रधानमंत्री कैबिनेट सदस्यों के प्रदर्शन के आधार पर उनके पोर्टफोलियो में बदलाव कर सकते हैं. ऐसा माना जा रहा है कि नवनिर्वाचित सीनेटर फैजल वावदा और अली जफर कैबिनेट का हिस्सा बन सकते हैं.

इमरान खान की पीटीआई सरकार तीन साल पहले साल 2018 में सत्ता में आई थी. जिसके बाद से ये पांचवां कैबिनेट फेरबदल है. बीते साल दिसंबर महीने में आखिरी बार फेरबदल हुआ था, इमरान खान ने मंत्रियों के पोर्टफोलियो में बदलाव किया था. उन्होंने शेख रशीद (Sheikh Rasheed) की आतंरिक मामलों के मंत्री के तौर पर नियुक्ति की थी. एजाज खान (Ijaz Shah) को नार्कोटिक्स मंत्री (Minister For Narcotics Control) के तौर पर नियुक्त किया था, इससे पहले वह आंतरिक मामलों के मंत्री थे.

आजम स्वाति को सौंपी थी दूसरी जिम्मेदारी

इसके अलावा प्रधानमंत्री इमरान खान ने नार्कोटिक्स मंत्री के पद पर नियुक्त हुईं आजम स्वाति (Azam Swati) को रेल मंत्रालय सौंप दिया था. वित्त सलाहकार अब्दुल हफीज शेख (Abdul Hafeez Shaikh) को वित्त मंत्रालय सौंपा गया था, वो भी तब जब वह फेडरल मंत्री के तौर पर शपथ ले चुके थे. पाकिस्तान में हाल ही में राजनीतिक संकट भी देखा गया था, जब इमरान खान की सरकार में वित्त मंत्री अब्दुल हफीज शेख सीनेट चुनाव में हार गए थे. इसके बाद इमरान खान ने विश्वासमत का सामना किया था.

ईवीएम पर भी हो रहा बवाल

सीनेट चुनाव (Senate Elections) के बाद ही पाकिस्तान की सरकार (Pakistan Government) ने ईवीएम (EVM) के इस्तेमाल का भी समर्थन किया है. जिसका विपक्ष विरोध कर रहा है. विपक्ष का कहना है कि इससे सरकार के लिए वोट की चोरी करना आसान हो जाएगा. विपक्षी पार्टी पीएमएल-एन (Pakistan Muslim League (N)) के नेता शाहिद खकान अब्बासी (Shahid Khaqan Abbasi) का कहना है कि सरकार ईवीएम को लेकर चर्चा कर रही है, जिससे चुनावों में धांधली करने का एक और तरीका तैयार किया जा रहा है. संवाददाताओं से बात करते हुए अब्बासी ने पूछा, अगर कोई मशीन लेकर जाता है और उसमें जमा डाटा गायब कर देता है तो हम क्या करेंगे? उन्होंने कहा, ऐसा करने वाले वो लोग हैं, जो चुनावों में धांधली करने में शामिल रहे हैं.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *