Breaking News

चिंगारियों को लाइट समझ बैठे छात्र, पार्टी में थे मशगूल, भीषण आग में जल गई 162 जिंदगियां

दुनियाभर के मुल्कों में युवाओं के बीच डिस्को (Disco) में जाना खासा लोकप्रिय है. ऐसे में बहुत से युवा अपने दोस्तों संग ग्रेजुएशन पार्टी या बर्थडे पार्टी मनाने के लिए डिस्को पहुंचते हैं. ऐसा ही एक डिस्को फिलीपींस (Philippines) के क्विजोन शहर (Quezon City) में मौजूद था. ओजोन डिस्को (Ozone Disco) नामक ये डिस्को 90 के दशक में यहां रहने वाले युवाओं के बीच खासा लोकप्रिय था. मार्च 1996 में इस डिस्को में इतना भयानक हादसा हुआ कि इसके जख्म आज भी फिलीपींस के लोगों के जेहन में है. दरअसल, आज ही के दिन इस डिस्को में आग लग गई और 162 लोग मर गए. मरने वालों में बड़ी संख्या में छात्र शामिल थे, जो यहां ग्रेजुएशन पार्टी करने के लिए आए थे.

18 मार्च 1996 की रात ओजोन डिस्को में बड़ी संख्या में छात्र ग्रेजुएशन पार्टी के लिए पहुंचे थे. ग्रेजुएशन सीजन होने के चलते यहां छात्रों की बड़ी संख्या मौजूद थी. कुल मिलाकर 350 छात्र यहां पार्टी करने पहुंचे थे. ये छात्र अपने जीवन का नया अध्याय शुरू करने वाले थे. लेकिन डिस्को में लगी आग ने इनका जीवन बदल दिया. रात के समय जब लोग पार्टी कर रहे थे. इसी दौरान डिस्को की छत पर कुछ चिंगारियां उठी. डीजे बूथ की तरफ से रंग-बिरंगी लाइटें आ रही थीं, ऐसे में लोगों ने इन चिंगारियों को उन्हीं लाइटों का हिस्सा समझ लिया. लोगों ने नाचना जारी रखा, लेकिन चिंगारी देखते ही देखते आग में तब्दील हो गई.

माइक का तार जलने से नहीं मिल पाई लोगों को आग लगने की सूचना

डिस्को के डांस फ्लोर की तरफ बढ़ रही आग को देखकर लोगों ने जल्दी से वहां से भागना शुरू कर दिया. लेकिन कुछ लोग वहीं फंस गए. डिस्को के डीजे ने माइक के जरिए लोगों को चेतावनी देने की कोशिश की. लेकिन आग लगने से माइक का तार चल चुका था और माइक्रोफोन काम नहीं कर रहा था. आग लगने से अफरा-तफरी मच चुकी थी और स्थिति तेजी से बदतर होती चली गई. लोगों तेजी से डिस्को से बाहर की ओर भाग रहे थे, इसी दौरान भगदड़ मच गई. लोग तेजी से एक्जिट गेट की तरफ भाग रहे थे, लेकिन इसी दौरान कुछ लोग गिर गए और भगदड़ में मारे गए.

भगदड़ में मारे गए दर्जनों लोग

वहीं, दूसरी मंजिल पर मौजूद गार्ड्स को लगा कि नीचे दंगे हो गए हैं. गार्ड्स आग से बेखबर थे और उन्होंने दूसरी मंजिल का दरवाजा बंद कर दिया. ऐसे में वहां लोग मौत के मुंह में फंस गए. चश्मदीदों ने बताया कि जब दरवाजे खोले गए तो लोगों की भारी भीड़ बाहर निकलने की दौड़ी. इस दौरान फिर भगदड़ मची और दर्जनों लोग मारे गए. वहीं, पहली मंजिल पर दर्जनों लोग जलकर मारे गए. घटना की जानकारी मिलते ही दमकल विभाग की टीम डिस्को में पहुंची. इस दौरान डिस्को से आग की तेज लपटें निकल रही थीं. अब तक आग को लगे हुए दो घंटे से अधिक का वक्त हो चुका था.

आग बुझने पर मिली अधजली लाशें

घंटों की कड़ी मशक्कत के बाद दमकलकर्मियों ने आखिरकार आग पर काबू पा लिया. लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी. ओजोन डिस्को त्रासदी दुनिया के कुछ सबसे भयंकर नाइटक्लब फायर में से एक बन चुकी थी. आग बुझने के बाद जब बचाव दल अंदर पहुंचा तो वहां लोगों की अधजली लाशें वहां बिखरी पड़ी थी. दर्जनों लोगों ने दम घुटने के चलते अपनी जान गंवा दी थी. कुल मिलाकर इस घटना में 162 लोगों ने अपनी जान गंवाई. इसे फिलीपींस के इतिहास की सबसे खतरनाक घटनाओं में से एक माना जाता है.

प्रातिक्रिया दे