Breaking News

अमेरिका और जापान के इस बयान से भड़का चीन, विरोध जताते हुए विदेश नीति पर बताया गंभीर हमला

चीन ने अमेरिका और जापान (Japan and US on China) के प्रति नाराजगी व्यक्त की है. उसने मानवाधिकार पर दोनों देशों के संयुक्त बयान का विरोध करते हुए इसे उसकी विदेश नीति पर ‘दुर्भावनापूर्ण हमला’ और चीन के आंतरिक मामलों में गंभीर हस्तक्षेप करार दिया है. चीन के विदेश मंत्रालय (Chinese Foreign Ministry) के प्रवक्ता झाओ लिजियान (Zhao Lijian) ने बुधवार को कहा, ‘चीन बयान से बहुत असंतुष्ट है और इसका कड़ाई से विरोध करता है.’ झाओ की टिप्पणी अमेरिकी विदेश मंत्री एंटोनी ब्लिंकेन (Antony Blinken) की चीन के विदेश मंत्री वांग यी और शीर्ष विदेशी नीति सलाहकार यांग जेइची के साथ अलास्का में होने वाली बैठक के एक दिन पहले आई है.

अमेरिका-जापान ने अपने बयान में ताइवान को दी जाने वाली धमकी, बीजिंग द्वारा शिजिंयाग में मानवाधिकार उल्लंघन (Xinjiang Human Rights Violations), दक्षिण चीन सागर की गतिविधियों और जापान नियंत्रित पूर्वी चीन सागर द्वीप की यथास्थिति को बदलने के लिए चीन की एकतरफा गतिविधियों पर चिंता व्यक्त की थी. झाओ ने अपने दैनिक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘बयान चीन की विदेश नीति पर ‘दुर्भावनापूर्ण’ हमला है, चीन के आंतरिक मामलों एवं उसके हितों पर गंभीर हमला है.’

चीन ने बयान का विरोध किया

उन्होंने कहा, ‘चीन इस बयान से पूरी तरह से अंसतुष्ट है और इसका विरोध करता है. हमने अमेरिका और जापान के समक्ष अपना विरोध जताया है.’ हालांकि, इस बयान से अलास्का में होने वाली वार्ता के खटाई में पड़ने के संकेत नहीं है. झाओ ने कहा कि चीन शिनजियांग और हांगकांग (Xinjiang and Hong Kong) पर अपनी नीति को लेकर चर्चा के लिए तैयार है. उन्होंने कहा, ‘लेकिन अमेरिका की बैठक से पहले जानबूझकर जनमत को भ्रमित करने और चीन पर दवाब बनाने की कोशिश सफल नहीं होगी.’

अमेरिका से किया ये आह्वान

झाओ ने कहा, ‘हम अमेरिकी पक्ष से आह्वान करेंगे कि वह अंतरराष्ट्रीय संबंधों (China on International Relations) की सुचिता का पालन करे और चीन के मुख्य हितों को खतरे में डालने वाले कृत्यों में शामिल नहीं हो.’ दूसरी ओर व्हाइट हाउस ने ब्लिंकेन और सुलिवन की गुरुवार को चीन के स्टेट काउंसेलर वांग यी और चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के विदेश मामलों के प्रमुख यांग जिएची के साथ होने वाली मुलाकात को लेकर कहा है कि उसे इससे खास अपेक्षाएं नहीं हैं.

प्रातिक्रिया दे