Breaking News

युद्ध के लिए तैयार रहे चीनी सेना – चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने कहा

बीजिंग, एएनआइ। भारत से तनातनी के बीच चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने सेना को किसी भी क्षण युद्ध के लिए तैयार रहने को कहा है। इतना ही नहीं उन्होंने सशस्त्र बलों को वास्तविक जंगी परिस्थितियों में अभ्यास करने का आदेश दिया है। बता दें कि पिछले वर्ष जून में गलवान घाटी में भारत और चीन के सैनिकों के बीच खूनी झड़प हो गई थी। इस दौरान जहां 20 भारतीय सैनिक शहीद हुए थे वहीं 40 से अधिक चीनी सैनिक मारे गए थे।

समाचार एजेंसी शिन्हुआ के मुताबिक वर्ष 2021 में केंद्रीय सैन्य आयोग (सीएमसी) के चेयरमैन के तौर पर दिए गए अपने पहले आदेश में शी ने कहा कि पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) को किसी भी समय युद्ध के लिए तैयार रहना चाहिए। साथ ही वास्तविक लड़ाई की परिस्थितियों में प्रशिक्षण लेकर अपनी स्थिति मजबूत करें ताकि किसी भी दशा में युद्ध जीता जा सके।

साउथ चाइना मार्निग पोस्ट के मुताबिक शी ने कहा कि कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना (सीपीसी) की सैन्य इकाई पीएलए को एक जुलाई तक इस संबंध में उत्कृष्टता हासिल करनी है। बता दें कि एक जुलाई को सीपीसी की 100वीं वर्षगांठ है। शी ने अभ्यास के दौरान प्रौद्योगिकी के उपयोग को बढ़ावा देने की भी सिफारिश की। इसमें कंप्यूटर सिमुलेशन और ड्रिल में ऑनलाइन मुकाबला शामिल है। वर्ष 2012 के अंत में सीएमसी के चेयरमैन और प्रमुख का कार्यभार संभालने के बाद से शी पीएलए को हमेशा युद्ध के लिए तैयार रहने का संदेश देते रहे हैं। उन्होंने वर्ष 2015 में चीनी सेना को आधुनिक बनाने की शुरुआत की थी।

बता दें कि भारतीय सेना सीमा पर पूरी तरह चौकस है और किसी भी हरकत का माकूल जवाब देने के लिए तैयार है। आपको बता दें कि चीन ने पूर्वी लद्दाख में सीमा टकराव के मद्देनजर रेडार, सतह से हवा में और सतह से सतह पर मार करने वाली मिसाइलें और अन्य हथियार भारी संख्या में बीते दिसंबर में ही तैनात कर दिए थे। इधर भारतीय सेना भी पूरी तरह तैयार है। सेना ने बड़ी संख्या में टी-90 और टी -72 टैंक, तोपों, अन्य सैन्य वाहनों को विभिन्न संवेदनशील इलाकों में पहुंचा दिया है। गौरतलब है कि दोनों देशों की सेनाओं के बीच पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर पिछले नौ महीने से गतिरोध बना हुआ है। दोनों देशों के बीच सीमा विवाद हल करने के लिए सैन्य और राजनयिक वार्ता भी चल रही है।

प्रातिक्रिया दे