पूजा के कुछ नियम बनाए गए हैं जिसका पालन कुछ लोग करते हैं और कुछ नहीं लेकिन इन बातों को ध्यान हर किसी को रखना चाहिए। कहा जाता है कि पूजा अगर सही नियम के साथ की जाए तो उसका पूरा फल प्राप्त होता है वहीं अगर इस दौरान कुछ गलतियां हो जाए तो उसका फल क्षीण हो जाता है आइए रोजाना पूजा के नियमों को जानते हैं

नई दिल्ली। Daily Puja Rules: सनातन धर्म में पूजा-पाठ का विशेष महत्व है। लोग रोजाना पूजा करके भगवान के प्रति अपना आभार प्रकट करते हैं, लेकिन इसके कुछ नियम हैं जिसका पालन बहुत कम लोग सही तरीके से करते हैं, हालांकि ये गलतियां अंजाने में होती हैं। नियमित पूजा से जुड़े हुए नियम का वर्णन ज्योतिष शास्त्र में विस्तार से दिया गया है, अगर इन नियमों का पालन सही ढंग से किया जाए, तो पूजा का पूर्ण फल प्राप्त होता है, तो आइए उन बातों को जानते हैं

कोई भी पूजा बिना आसन के पूर्ण नहीं मानी जाती है। इसलिए रोजाना होने वाली पूजा आसन पर बैठकर ही करना चाहिए, जिसका जिक्र शास्त्रों में भी मिलता है। ऐसा कहा जाता है कि खड़े रहकर या फिर आसन के बिना पूजा फलदायी नहीं रहती है। ऐसे में कोशिश करें कि आपके पास खुद का एक आसन हो। ताकि पूजा-पाठ का पूर्ण फल प्राप्त हो सके।

पूजा के बाद आसन जरूर हटा दें

ऐसा माना जाता है कि पूजा करने के बाद आसन जरूर हटा देना चाहिए, ऐसा न करने पर पूजा दोष लगता है। इसलिए अगर आप चाहते हैं कि आप इस दोष से मुक्त रहें, तो आपको आसन यूं ही पड़ा हुआ नहीं छोड़ना चाहिए। हालांकि इसका नियम भी है। आसन उठाने से पहले आसन के नीचे जल छिड़कें और फिर उसे उठाएं।

पूजा से पहले घर व मंदिर को जरूर साफ करें

रोजाना की पूजा में पवित्रता का खास ख्याल रखना चाहिए, चाहे वो मन की पवित्रता हो या फिर घर की। ऐसा कहा जाता है कि पूजा से पहले अपने पूरे घर व मंदिर को अच्छी तरह से साफ कर लेना चाहिए। ऐसा करने से माता लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं। साथ ही घर में सुख समृद्धि का वास रहता है। इसलिए अपने घर को हमेशा स्वच्छ रखें और पूजा मंदिर को रंगोली व फूलों से सजाएं।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *