Breaking News

स्पेन की राजकुमारियों का UAE में ‘शाही वैक्सीनेशन':राजशाही के खिलाफ जनता का आक्रोश बढ़ा, मंत्री बाेले- देश को अनुकरणीय व्यवहार की जरूरत

स्पेन में शाही परिवार के अपमान और आतंकियों का महिमामंडन करने वाले रैपर को पिछले महीने जेल भेजा गया था। रैपर के समर्थन में तब से देशभर में चल रहे प्रदर्शन अभी थमे नहीं थे कि वहां एक और विवाद ने आग में घी डाल दिया है। इस बार ये काम स्पेन की दो राजकुमारियों ने किया।

दरअसल, 57 साल की प्रिंसेस एलिना और 55 साल की प्रिंसेस क्रिस्टीना ने अबुधाबी में अपने पिता पूर्व राजा जुआन कार्लोस से मुलाकात की। कार्लोस ने मनी लॉन्ड्रिंग और टैक्स चोरी की जांच से बचने के लिए दुबई में शरण ले रखी है। इस यात्रा में दोनों प्रिंसेज ने कोरोना से बचाव की वैक्सीन लगवाई। उनके इस कदम ने स्पेन के लोग और भड़क गए हैं, क्योंकि देश में टीकाकरण के तहत 80 साल से अधिक उम्र के लोगों और फ्रंटलाइन वर्कर्स को ही तवज्जो दी जा रही है

यहां सेना के चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ, कई सरकारी अफसरों को अपनी बारी से पहले वैक्सीन लगवाने पर इस्तीफा तक देना पड़ा है। राजकुमारियों के इस कदम पर स्पेन सकार ने भी शाही परिवार को नसीहत दी है। समानता विभाग की मंत्री इरेन मोन्टरो ने कहा, यह खबर राजशाही की बदनामी बढ़ाएगी। एक अन्य मंत्री पाब्लो इग्लेसियस ने कहा, ‘शाही परिवार में हर बार एक नया घोटाला सामने आ रहा है।

इससे स्पेन के लोगों राजशाही के महत्व को लेकर बहस चल रही है। हेल्थ मंत्री कैरोलिना दरियास ने कहा, ‘इस देश को अनुकरणीय व्यवहार की जरूरत है।’ उधर, दोनों राजकुमारियों ने अपने इस फैसले का बचाव किया है। उन्होंने कहा कि कोविड पासपोर्ट की वजह से ही वे पिता से आसानी से मिल सकीं। हालांकि, इससे पहले, क्रिस्टीना का 2016 मेंनाम धोखाधड़ी मामले में आया था।

स्पेनिश कोर्ट ने 2017 में उनके पति इंकी को लाखों यूरो के गबन का दोषी ठहराया था और 6 साल की सजा सुनाई थी। बीते महीने स्पेन में मौजूदा राजा की 15 वर्षीय बेटी प्रिंसेज लियोनार को पढ़ाई के लिए यूके जाने के फैसले से जनता में भारी रोष है। इस पर 67 लाख रुपए का खर्च आएगा।

शाही परिवार के कार्लोस की रैपर पाब्लो ने की थी आलोचना, जेल हुई

बीते साल पूर्व राजा जुआन कार्लोस का भ्रष्टाचार और टैक्स चोरी का मामला सामने आने के बाद से ही राजशाही का विरोध तेज हो गया है। कार्लोस पर सऊदी अरब से 10 करोड़ डॉलर घूस लेने का आरोप है। जांच से बचने के लिए जुआन अबुधाबी में बस गए हैं। इससे राजशाही के खिलाफ लोगों में गुस्सा भर दिया है। कार्लोस का अपमान करने और सोशल मीडिया के माध्यम से आतंकी हिंसा की प्रशंसा करने के आरोप में रैपर पाब्लो हसेल को 9 माह की सजा दिए जाने के खिलाफ देशभर में प्रदर्शन चल रहे हैं। हर तरफ एक ही गूंज है- ‘पाब्लो हसेल को रिहा करो और पुलिस हिंसा नहीं चलेगी।’

प्रातिक्रिया दे