Breaking News

कोरोना दुनिया में:WHO बोला- इस साल खत्म नहीं होने वाली महामारी; अफ्रीकी देशों में भी वैक्सीनेशन शुरू

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) ने कहा है कि दुनिया को इस साल कोरोना से छुटकारा नहीं मिलेगा। WHO इमरजेंसी डायरेक्टर माइकल रेयान ने सोमवार को चेतावनी देते हुए कहा, ‘यह सोचना बहुत ही ठीक नहीं है कि इस साल दुनिया को कोरोना की लड़ाई में सफलता मिल जाएगी, लेकिन अस्पताल में भर्ती होने वाले मरीजों और मौतों को कम कर के इस त्रासदी से बाहर निकला जा सकता है।’ उन्होंने कहा कि पिछले हफ्तों में दुनियाभर में कोरोना के मामले बढ़े हैं। इससे हमें सबक लेने की जरूरत है।

वहीं, अफ्रीकी देशों में कोरोना के खिलाफ वैक्सीनेशन शुरू हो गया है। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) ने सोमवार को बताया कि सभी देशों तक वैक्सीन पहुंचाने के अभियान कोवैक्स के तहत पश्चिमी अफ्रीकी देश घाना और कोट-डिवॉय में वैक्सीनेशन की शुरुआत हो गई है। पिछले हफ्ते ही दोनों देशों में सीरम इंस्टीट्यूट ने एस्ट्राजेनेका-ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन पहुंचाई है। घाना को 24 फरवरी को वैक्सीन की 6 लाख डोज और इसके दो दिन बाद कोट-डिवॉय को 5.04 लाख डोज मिले थे।

कोरोना के मामले बढ़ना चिंता का विषय : गेब्रेसिएस
WHO चीफ ट्रेडोस गेब्रेसिएस ने कहा कि पिछले हफ्ते यूरोप, अमेरिका और दक्षिण-पूर्व एशिया के देशों में कोरोना के मामले बढ़े हैं। ऐसा पिछले 7 हफ्तों में पहली बार देखा गया है। उन्होंने कहा कि यह बहुत ही निराशाजनक है। इसकी एक बड़ी वजह कई देशों में सख्तियों में छूट हो सकती है। लोग लापरवाही बरत रहे हैं, जिससे कोरोना वैरिएंट तेजी से फैल रहा है।

कुल मरीज 11.49 करोड़ से ज्यादा
दुनिया में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 11.49 करोड़ से ज्यादा हो गया। 9 करोड़ 6 लाख से ज्यादा लोग ठीक हो चुके हैं। अब तक 25 लाख 49 हजार से ज्यादा लोग जान गंवा चुके हैं। ये आंकड़े www.worldometers.info/coronavirus के मुताबिक हैं।

नेपाल के आर्मी चीफ ने भारत में बनी वैक्सीन का पहला डोज लिया
नेपाल के चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ पूर्ण चंद्र थापा ने सोमवार को भारत में बनी कोरोना वैक्सीन का पहला डोज लिया। पिछले महीने ही भारत की ओर से 10 लाख टीके की दूसरी खेप नेपाल भेजी गई थी। इस वैक्सीन को ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका ने डेवलप किया है। भारत में इसे सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया कोवीशील्ड के नाम से बना रहा है। वैक्सीन मैत्री पहल के तहत भारत अपने पड़ोसी देशों को टीके उपलब्ध करा रहा है।

US को जून तक 10 करोड़ डोज मिलेंगे
अमेरिका में इमरजेंसी यूज का अप्रूवल पाने वाली तीसरी वैक्सीन जैनसेन के मार्च तक 2 करोड़ डोज मिल जाएंगे। इसे बनाने वाली कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन का कहना है कि यह संख्या जून तक 10 करोड़ की जाएगी। कंपनी के चीफ साइंटिफिक ऑफिसर डॉ. पॉल स्टोफेल्स ने कहा कि यह सिंगल शॉट वैक्सीन है। इस लिहाज से हमारी वैक्सीन के जरिए गर्मी तक 10 करोड़ अमेरिकियों को वैक्सीनेट किया जा सकेगा।

टॉप-10 देश, जहां अब तक सबसे ज्यादा लोग संक्रमित हुए

(ये आंकड़े www.worldometers.info/coronavirus/ के मुताबिक हैं)

प्रातिक्रिया दे