Breaking News

कोरोना दुनिया में:जो बाइडेन ने कोविड-19 से मारे गए 5 लाख अमेरिकियों को याद किया, कहा- मुझे इनके परिवारों के दर्द का अहसास है

दुनिया में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 11.22 करोड़ से ज्यादा हो गया। 8 करोड़ 77 लाख से ज्यादा लोग ठीक हो चुके हैं। अब तक 24 लाख 84 हजार से ज्यादा लोग जान गंवा चुके हैं। ये आंकड़े www.worldometers.info/coronavirus के मुताबिक हैं।

व्हाइट हाउस में श्रद्धांजलि
अमेरिका में कोविड-19 से मरने वालों का आंकड़ा आधिकारिक तौर पर 5 लाख पार कर गया। हालांकि, worldometers और दूसरी कोविड ट्रैकर वेबसाइट्स ने दो दिन पहले ही मरने वालों की संख्या पांच लाख बता दी थी। बहरहाल, राष्ट्रपति बाइडेन की मौजूदगी में इस महामारी से मारे गए अमेरिकियों को याद किया गया। व्हाइट हाउस में कैंडल जलाकर और मौन रखकर मारे गए अमेरिकियों को श्रद्धांजलि दी गई। बाइडेन ने कहा- हमें मजबूती से इसका सामना करना होगा। यह सिर्फ संख्या नहीं बल्कि एक चुनौती है। महामारी से मुकाबले के लिए सियासत और गलत जानकारी से बचना होगा। एक बात मैं जरूर कहना चाहूंगा। जिन लोगों ने इस महामारी में अपने परिजनों को खोया है, मुझे उनके दर्द का गहरा अहसास है।

अमेरिकी इतिहास में किसी एक वजह या दौर से इतनी मौतें पहले कभी नहीं हुईं। सेकंड वर्ल्ड वॉर में करीब 4 लाख 5 हजार अमेरिकियों की मौत हुई थी। वियतनाम वॉर में 58 हजार और कोरिया के साथ जंग में 36 हजार लोगों की मौत हुई थी। यूनिवर्सिटी ऑफ वॉशिंगटन ने आशंका जताई है कि 1 जून तक महामारी से मरने वालों का आंकड़ा 5 लाख 89 हजार तक पहुंच सकता है।

इटली ने WHO से सही जानकारी छिपाई
‘द गार्डियन’ की एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि इटली ने पिछले साल फरवरी में WHO को महामारी के बारे में सही जानकारी नहीं दी, जबकि देश में केस मिलने शुरू हो गए थे। दरअसल, दुनिया के तमाम देशों को इंटरनेशनल हेल्थ रेग्युलेशन्स (IHR) का पालन करना होता है।

साल की शुरुआत में बीमारियों से जुड़ी सेल्फ असेसमेंट रिपोर्ट देनी होती है। इटली ने 4 फरवरी 2020 को यह रिपोर्ट तो दी, लेकिन इसमें खुद को लेवल 5 पर बताया। इसके मायने ये हैं कि किसी बीमारी से लड़ने की उसकी तैयारी सही स्तर पर है। रिपोर्ट के मुताबिक, इटली ने 2006 के बाद राष्ट्रीय महामारी उन्मूलन यानी महामारी से निपटने का प्लान ही अपडेट नहीं किया। दावा किया जाता है कि अमेरिका से पहले इटली में महामारी ने दस्तक दी। चीन के बाद यह पहला देश था जहां महामारी सबसे पहले पैर पसार चुकी थी।

ब्रिटेन सरकार की तैयारी
ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने सोमवार को देश में लॉकडाउन हटाने का रोडमैप जारी कर किया। 4 स्टेप में लॉकडाउन हटाया जाएगा। इनकी तारीखों का ऐलान करते वक्त जॉनसन ने कहा कि खतरा अभी बरकरार है। आने वाले महीनों में हॉस्पिटल में एडमिट होने वाले मरीजों और मौतों की संख्या बढ़ेगी, क्योंकि कोई भी वैक्सीन पूरी आबादी को 100% प्रोटेक्शन का भरोसा नहीं दे सकती। जॉनसन ने बताया कि रोडमैप की सभी स्टेप के बीच 5 हफ्ते का अंतर होगा। किसी भी जल्दबाजी का मतलब दोबारा लॉकडाउन लगाने की नौबत आना भी हो सकता है और मैं यह खतरा नहीं उठाऊंगा। उन्होंने सांसदों से कहा कि हर स्टेप में हमारे फैसले पर तारीखों के बजाय डेटा की अहम भूमिका होगी।

उन्होंने कहा कि जो लोग जल्द लॉकडाउन हटाने की बात कर रहे हैं, मैं उनके हालात समझता हूं। लोग जो तनाव महसूस कर रहे हैं या बिजनेस को नुकसान हो रहा है, उससे मेरी बहुत सहानुभूति है। PM ने कहा कि लॉकडाउन हटाने की शुरुआत स्कूलों से होगी। देश में सभी स्कूल 8 मार्च से फिर खुलेंगे।

टॉप-10 देश, जहां अब तक सबसे ज्यादा लोग संक्रमित हुए

(ये आंकड़े www.worldometers.info/coronavirus/ के मुताबिक हैं)

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *