Connect with us

World

अमेरिका के 14 राज्यों में बिजली संकट:टेक्सास में 50 लाख लोग अंधेरे में, मैक्सिको में भी 47 लाख लोग ग्रिड बैठ जाने से 14 घंटे तक अंधेरे में रहे

Published

on

अमेरिका के कई राज्य इस वक्त बर्फ के तूफान के साथ भीषण सर्दी से जूझ रहे हैं। इसके साथ ही बिजली और ऊर्जा संकट ने जमा देने वाली सर्दी में लोगों पर कहर ढा दिया है। दरअसल, यह संकट नॉर्थ डकोटा से लेकर ओकलाहामा तक के 14 राज्यों में दक्षिण-पश्चिमी पॉवर पूल को नियंत्रित करने वाली ग्रिड बैठने से पैदा हुआ है। इससे इन राज्यों में एनर्जी इमरजेंसी लागू करनी पड़ी।

स्थिति यहां तक है कि ब्लैकआउट हो गया है। सबसे बुरा हाल टेक्सास का है। वहां करीब 50 लोग अंधेरे का सामना कर रहे हैं। इनमें घरों से लेकर कारोबारी संस्थान भी शामिल हैं। इस संकट के पीछे तेल और गैस की किल्लत और ग्रिड का बर्फ के चलते रखरखाव न हाे पाने के साथ सर्दी के कारण मांग में तेजी से उछाल आना बताया जा रहा है।

दरअसल, टेक्सास में 10 लाख बैरल तेल और 10 अरब घन फीट गैस का उत्पादन पाइपलाइन जम जाने के कारण बंद कर दिया गया है। भारी बर्फबारी जाारी रहने से टीकाकरण की प्रक्रिया भी प्रभावित हो रही है। मेडिकल सेंटर और अस्पतालों में परेशानियां बढ़ गई हैं। देशभर में 3000 फ्लाइट्स रद्द हाे रही हैं। टेक्सास में एनर्जी इमरजेंसी के हालात को देखते हुए राष्ट्रपति जो बाइडेन ने ज्यादा से ज्यादा मदद उपलबध कराने का भरोसा दिया है।

उधर, अमेरिका की फेडरल एनर्जी नियामक आयोग ने कहा है कि हालात बेहद मुश्किल भरे हैं। उधर, मैक्सिको में भी 47 लाख लोग ग्रिड बैठ जाने से 14 घंटे तक अंधेरे में रहें। हालांकि उसने 65% जगह बिजली बहाल कर दी है।

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

World

दुबई से ग्राउंड रिपोर्ट:कोरोना केस बढ़ते ही सभी बार और पार्टियां बंद, एयरपोर्ट पर अब चेहरा ही होगा पासपोर्ट

Published

on

यूं तो दुनिया के 2 बड़े इवेंट गल्फ फूड और डिफेंस एक्सपो दुबई और अबू धाबी में चल रहे हैं और बिलियन डॉलर के सौदे भी हो रहे हैं, लेकिन कोरोना की वापसी ने यहां सबकी चिंता बढ़ा दी है। रोज औसतन 2800 संक्रमित मिल रहे हैं। कोरोना की इस लहर में मौतों की संख्या में भी उछाल देखने को मिल रहा है। 19 फरवरी को कोरोना से 20 मौतें दर्ज की गई हैं।

हालांकि 97.7 लाख की आबादी वाले यूएई में 55.6 लाख लोगों को वैक्सीन लग चुकी है। सरकार टेक्नोलॉजी और सख्ती से कोरोना का मुकाबला कर रही है। सरकारी दफ्तरों में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग और रोबोट की मदद से काम हो रहा है। दुबई इमीग्रेशन पर आईआरआईएस टेक्नोलॉजी शुरू की गई है। इसमें मुसाफिर का चेहरा ही उसका पासपोर्ट है।

दुबई ने सख्ती करते हुए सभी पब और बार को बंद कर दिया है। रेस्टोरेंट्स भी इवेंट्स या पार्टी नहीं कर सकते हैं। बढ़ती सख्ती का अंदाजा ऐसे लगा सकते हैं कि दुबई ने कोविड नियमों का पालन नहीं करने पर जनवरी में 14 व्यवसायिक प्रतिष्ठानों को बंद किया था और 213 पर जुर्माना लगाया था। वहीं, बीते एक हफ्ते में 31 प्रतिष्ठानों पर जुर्माना लगाया गया है।

इसमें नियम तोड़ने पर एक डेजर्ट टूरिस्ट कैंप, याट पार्टी और प्राइवेट पार्टी पर 10-10 लाख रुपए का जुर्माना लगाया है। वॉट्सएप पर कोरोना पीसीआर टेस्ट का ऑफर देने वाली एक ट्रेवल एजेंसी को भी सील कर दिया है। सिनेमा हॉल और इनडोर इवेंट की कैपसिटी को 50% कर दी है। अबू धाबी में भी पार्टी पूरी तरह से बैन है। सिनेमा हॉल भी बंद हैं।

शादी में 10 और शोक सभा में 20 लोगों की ही इजाजत कर दी गई है। जिन कर्मचारियों ने वैक्सीन नहीं लगवाई है, उन्हें हर हफ्ते पीसीआर टेस्ट की रिपोर्ट जमा करने का आदेश दिया गया है। एक्सपर्ट्स कहते हैं कि दिसंबर में दुबई शॉपिंग फेस्टिवल और न्यू ईयर में लाखों यात्री आए। इस दौरान की गई लापरवाही ने कोरोना को वापसी में मदद की है।

दो लाख पहुंच गया था मॉल आने वाले लोगाें का राेज का औसत

दिसंबर में दुबई मॉल में आने वाले लोगों का रोज का औसत 2 लाख पहुंच गया था। बाजार वापसी कर रहा है और मार्केट में सभी सभी सेक्टर्स में रिकवरी दिख रही है तो सरकार इस अवसर को खोना नहीं चाहती है। 2020 में टूरिज्म सेक्टर में 94 लाख करोड़ रुपए के नुकसान के बाद जनवरी और फरवरी में एमिरेट्स एयरलाइंस ने पैसेंजर ट्रैफिक में 75-80% की ग्रोथ हासिल की है। दिसंबर में वर्ल्ड कूलेस्ट विंटर इवेंट से भी 2 हजार करोड़ रुपए का राजस्व कमाया है।

रेड लिस्ट के देशों के यात्रियों को 14 दिन क्वारेंटाइन किया जा रहा

अबू धाबी आने वाले यात्रियों को अतिरिक्त टेस्ट से गुजरना पड़ रहा है। यदि यात्री ग्रीन लिस्ट के देश से आ रहा है तो 10 दिन का क्वारेंटाइन, अगर रेड लिस्ट के देश से है तो 14 दिन सरकारी संस्थान में रहना होगा। बाकी सारे अमीरात शारजाह, अजमान, फुजैराह में भी ऐसी सख्ती है।

Continue Reading

World

NASA के पर्सिवियरेंस रोवर ने मंगल ग्रह से भेजा ऑडियो, लैंडिंग का VIDEO भी जारी किया

Published

on

डिजिटल डेस्क, वाशिंगटन। अमेरिका की अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) ने लाल ग्रह (मंगल) पर 18 फरवरी को की गई लैंडिंग के आखिरी मिनटों का एक वीडियो जारी किया है। नासा ने मार्स 2020 पर्सिवियरेंस रोवर (Perseverance Rover) द्वारा लिए गए वीडियो के साथ ही एक ऑडियो भी जारी की है। यह मंगल ग्रह से पहला ऑडियो है। रोवर पर एक माइक्रोफोन ने हवाओं की आवाज भी रिकॉर्ड की है।

पर्सिवियरेंस के कैमरा और माइक्रोफोन सिस्टम के लीड इंजीनियर डेव ग्रुएल ने कहा कि 60 सेकंड की रिकॉर्डिग में लगभग 10 सेकंड तक हवा की आवाज सुनी जा सकती है। इसके अलावा इसमें रोवर के कारण पैदा हुई आवाज भी सुनी जा सकती है। नासा का रोवर जेजेरो केट्रर में उतरा है, जहां पैराशूट खुलने से लेकर लैंडिंग तक के दृश्य वीडियो में देखे जा सकते हैं।

मंगल ग्रह की लैंडिंग का दुनिया का सबसे अंतरंग दृश्य
अंतरिक्ष यान द्वारा मंगल ग्रह के ऊपरी वायुमंडल में 20,100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से प्रवेश करने के लगभग 230 सेकंड बाद मंगल ग्रह की लैंडिंग का दुनिया का सबसे अंतरंग दृश्य शुरू होता है।

वीडियो में रोवर को सतह पर लैंड करते हुए दिखाया गया
नासा की ओर से जारी हाई डेफिनेशन वीडियो में पर्सिवियरेंस रोवर एक लाल और सफेद रंग के पैराशूट के सहारे सतह पर उतरते हुए दिखाई दे रहा है। इस वीडियो में धूल के गुबार के बीच रोवर को सतह पर लैंड करते हुए देखा जा सकता है। यह वीडियो 3 मिनट 25 सेकंड का है।

मंगल पर पहली बार किसी रोवर की लैंडिंग कैप्चर की गई
नासा के जेट प्रोपल्सन लेबोरेटरी के निदेशक माइकल वाटकिंस ने कहा कि यह पहली बार है जब हमने मार्स पर लैंडिंग जैसे किसी इवेंट को कैप्चर करने में सक्षम हुए हों। उन्होंने कहा कि ये वाकई में कमाल का वीडियो है।

नासा के कार्यवाहक प्रशासक स्टीव जुर्सिस्क ने मंगल ग्रह पर उतरने को लेकर लोगों के बीच बने रहने वाले उत्साह को लेकर एक बयान में कहा कि जो लोग आश्चर्य करते हैं कि आप मंगल ग्रह पर कैसे उतरते हैं, या फिर यह इतना मुश्किल क्यों है, या ऐसा करना कितना कूल होगा, अब आपको आगे देखने की जरूरत नहीं है।

Continue Reading

World

नस्लवाद पर पूर्व US प्रेसिडेंट का खुलासा:ओबामा बोले- एक दोस्त ने रंगभेदी कमेंट किया था, मैंने उसकी नाक तोड़ दी थी

Published

on

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अपने साथ हुए नस्लभेद पर रोचक घटना बताई। ओबामा के मुताबिक- स्कूल के दिनों में मेरे एक साथी ने मुझ पर नस्लभेदी और रंगभेदी टिप्पणी की थी, गुस्से में मैंने उसकी नाक तोड़ दी थी। ओबामा के अनुसार, यह घटना स्कूल के लॉकर रूम में हुई थी। ओबामा 8 साल तक अमेरिका के राष्ट्रपति रहे। उन्होंने दो कार्यकाल पूरे किए। उस दौरान जो बाइडेन वाइस प्रेसिडेंट थे और अब वे अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति हैं।

पोडकास्ट में शामिल हुए ओबामा
‘द हिल’ की एक रिपोर्ट के मुताबिक, नस्लभेद पर ओबामा ने यह खुलासा एक पॉडकास्ट के दौरान किया। इस प्रोग्राम के एंकर ब्रूस स्प्रिंगस्टीन थे। ओबामा ने इस घटना के बारे में कहा- मैं जब स्कूल में था तो मेरे कई दोस्त थे। एक दोस्त खास था। हम साथ में बास्केटबॉल खेलते थे। एक बार हम खेल रहे थे और इसी दौरान आपस में झगड़ा हो गया। उसने मुझसे कुछ नस्लभेदी शब्द कहे। उसने शायद जो कुछ कहा, उसका अर्थ भी वो नहीं जानता था। मैं गुस्से में था। मैंने एक घूंसा उसकी नाक पर मारा और उसकी नाक तोड़ दी। इस पर एंकर ने कहा- आपने बिल्कुल सही किया।

फिर मतलब समझाया
अमेरिका के पहले अश्वेत राष्ट्रपति रहे ओबामा ने आगे कहा- घटना के बाद मैंने अपने उस दोस्त को बताया कि उसने जो कहा उसका क्या मतलब होता है। माना जा रहा है कि ओबामा ने पहली बार इस तरह की घटना का सार्वजनिक तौर पर जिक्र किया है। ओबामा के मुताबिक, मैं गरीब और बदसूरत हो सकता हूं, लेकिन इसके यह मायने बिल्कुल नहीं हैं कि कोई मेरा अपमान करे। और जो गलती मैंने नहीं की, उसकी सजा कैसे मिल सकती है.

पहले भी यह मुद्दा उठा चुके हैं ओबामा
अमेरिका में पिछले चुनाव में नस्लवाद का मुद्दा कई बार उठा। ओबामा ने अपने कार्यकाल और इसके बाद भी कई बार इस मुद्दे का जिक्र किया है। 2015 में उन्होंने कहा था- अमेरिका में नस्लवाद की कोई जगह नहीं है। हम इसे किसी भी रूप में स्वीकार नहीं कर सकते। यह 300 पहले हो सकता था, लेकिन अब तो इसकी कोई जगह हो ही नहीं सकती।

Continue Reading

Trending