Breaking News

निषाद समुदाय को रिझाने के लिए अखिलेश वादा करके गए, उससे पहले ही BJP ने कर दिया खेल

निषाद समुदाय को रिझाने के लिए अखिलेश वादा करके गए, उससे पहले ही BJP ने कर दिया खेल

लखनऊ: राजनीति में अक्सर नेता अपना वोट बैंक मजबूत करने के लिए जनता से वादा करते हैं. कुछ लोग वादे पूरे कर देते हैं तो कुछ लोग उसे भूल जाते हैं. इसके अलावा कभी-कभी ऐसा भी होता है कि वादा करता कोई और है, लेकिन उसे पूरा कोई और  कर देता है. 

ऐसा ही कुछ उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद में हुआ. यहां निषाद समाज के वोटरों को लुभाने के लिए अखिलेश यादव ने कुल देवी के मंदिर में पूजा-पाठ की थी. इतना ही नहीं, उन्होंने उस क्षेत्र का विकास कराने का वादा भी किया, लेकिन अखिलेश कुछ करा पाते उससे पहले ही बीजेपी ने क्षेत्र के विकास के लिए 50 लाख रुपये का बजट जारी कर दिया. 

ये भी पढ़ें- चालीस साल साथ रहने के ओल्ड एज कपल ने धूमधाम से रचाई शादी, बेटे-बहुएं-पोते बने बाराती

अखिलेश ने किया था वादा 
यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव 5 अप्रैल को माता सीयर देवी के मंदिर पर आए थे. यह मंदिर थाना नगला सिंघी क्षेत्र के कोट कसौंदी में स्थित है. यहां अखिलेश यादव ने विधि-विधान के साथ पूजा-अर्चना की. ऐसा करके उन्होंने निषाद समाज के वोटरों को लुभाने की कोशिश की. इसके साथ ही सरकार में आने पर इस क्षेत्र का विकास कराने का वादा किया था. 
दरअसल, माता सीयर देवी निषाद समाज की कुलदेवी हैं. इस मंदिर से पूरे निषाद समाज की आस्था जुड़ी हुई है. ऐसे में सपा अध्यक्ष का किया वादा उनके वोट बैंक के लिहाज से खास हो जाता है. 

बीजेपी ने जारी कर दिया बजट
वहीं, समूचे निषाद समाज के वोट को दूसरे पाले में जाता देख बीजेपी ने भी बड़ा कदम उठाया. भाजपा सरकार ने माता सीयर देवी मंदिर को पर्यटक क्षेत्र घोषित कर दिया. इतना ही नहीं, इसके लिए 50 लाख रुपये का बजट भी स्वीकृत कर दिया. टूंडला विधायक प्रेमपाल सिंह धनगर ने कहा कि भाजपा हमेशा मंदिरों के जीर्णोद्धार और विकास के लिए काम करती है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा इस क्षेत्र के विकास के लिए 50 लाख की धनराशि स्वीकृत की गई है. इससे मंदिर के साथ-साथ पूरे क्षेत्र की भव्यता और बढ़ेगी. जो विकास की दृष्टि से बेहद अहम होगा. 

ये भी पढ़ें- UP Corona Update: यूपी में बीते 24 घंटे में 213 नए मामले, महोबा फिलहाल कोरोना मुक्त

आल्हा-ऊदल के समय से है मंदिर का इतिहास
मान्यताओं के अनुसार, माता सियर देवी मंदिर इतिहास आल्हा और ऊदल के जमाने से है. सियर देवी निषाद समाज की कुलदेवी के रूप में जानी जाती हैं इसलिए टूंडला में इस मंदिर की काफी मान्यता है. आपको बता दें कि टूण्डला विधानसभा सीट से जो भी प्रत्याशी चुनाव लड़ता है, वह इस मंदिर में माता के दर्शन करने जरूर जाता है. भले ही वह किसी भी पार्टी, जाति या धर्म का क्यों न हो. 

राजबब्बर ने मांगी थी मन्नत 
राजनीति से जुड़े लोगों का विश्वास है कि इस मंदिर में माता के चरणों में मत्था टेकने से न सिर्फ विधानसभा इलाके में बल्कि प्रदेश भर की सभी सीटों पर उसे जीत हासिल होती है. बता दें कि साल 2009 में जब राजबब्बर ने फिरोजाबाद लोकसभा से चुनाव लड़ा था, तो उन्होंने इस मंदिर में मन्नत मांगी थी. चुनाव जीतने के बाद उन्होंने मंदिर के बाहर चबूतरे और रेलिंग का निर्माण कराया था.

ये भी देखें- 1 मिनट में समझिए- यूपी बोर्ड के रिजल्ट में कैसे मिलेंगे नंबर्स

WATCH LIVE TV