Breaking News

RIMS के आउटसोर्सिंग कर्मचारियों ने शुरू किया हल्ला बोल! नौकरी से हटाए जाने से हैं नाराज

RIMS के आउटसोर्सिंग कर्मचारियों ने शुरू किया हल्ला बोल! नौकरी से हटाए जाने से हैं नाराज

Ranchi: झारखंड के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल RIMS में कोरोना काल से ड्यूटी दे रहे विभिन्न वर्गों के स्वास्थ्य कर्मियों के सब्र का बांध टूट गया है. आउटसोर्सिंग पर बहाल कर्मचारियों ने मंगलवार को अस्पताल के सुपरिटेंडेंट कार्यालय के बाहर जमकर हंगामा किया. 

आउटसोर्सिंग कर्मचारियों ने 3 घंटे तक डिप्टी सुपरिटेंडेंट कार्यालय के पास प्रदर्शन करने के बाद मेडिकल चौक को जाम कर दिया. इसके बाद बरियातू थाने की पुलिस और आईआरबी के जवानों ने सभी कर्मचारियों को सड़क से हटा कर अस्पताल कैम्पस भेज दिया.

RIMS के आउटसोर्सिंग कर्मचारी तय वक्त से पहले काम से हटाए जाने को लेकर नाराज है. प्रदर्शनकारियों के मुताबिक उन्हें कोविड काल में 1 साल के ड्यूटी पर रखा गया था. फिर, ड्यूटी पीरियड को घटाकर 3 महीने कर दिया गया. अब ये कहा जा रहा है कि जिन लोगों को 12 मई को रखा गया है, उन्हें हटाया जाएगा. इसके अलावा प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि उनके 2 महीने के पेमेंट का भुगतान भी नहीं किया गया है.

इसे लेकर RIMS प्रबंधन का कहना है कि आउटसोर्सिंग कर्मचारियों के मामले में उनका कोई हस्तक्षेप नहीं है. RIMS के जनसंपर्क अधिकारी डॉ. डीके सिन्हा के मुताबिक आउटसोर्सिंग कर्मचारियों की बहाली दूसरी कंपनी की ओर से की गयी थी इसीलिए ये अस्पताल प्रबंधन का मामला नहीं है. हालांकि उन्होंने कर्मचारियों की मांग को जायज बताया और कहा की देखना होगा कि किन परिस्थितियों में इन्हें हटाया गया है.

ये भी पढ़ें- Bihar: सीवान के भरे बाजार में बम विस्फोट, पिता-पुत्र गंभीर रूप से घायल

वहीं, कर्मचारियों की बहाली के लिए जिम्मेदार टी एंड एम सर्विसेज कंसलटिंग प्राइवेट लिमिटेड के सैफ अहमद के मुताबिक मंगलवार को सभी कर्मचारियों से बात की जाएगी. और उनकी सभी समस्याओं पर विचार किया जाएगा. इस सबके बीच आउटसोर्सिंग कर्मचारी अपनी मांग पर अड़े हुए हैं और प्रदर्शन जारी रखे हुए हैं.