Breaking News

Amit Shah का Mamata Banerjee पर निशाना, कहा- 2 मई को धूमधाम से विदाई देगी बंगाल की जनता

नई दिल्ली: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने रविवार को बंगाल में लगातार दो रैलियां की. नादिया के बाद बशीरहाट में हुई रैली में भी उन्होंने TMC को निशाने पर लिया और सीएम ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) पर बंगाल चुनाव में हिंसा भड़काने का आरोप लगाया.

‘2 मई को सोनार बांगला की शुरुआत’

बशीरहाट (Basirhat) में चुनावी रैली में बोलते हुए बोलते हुए अमित शाह ने कहा, ’14 अप्रैल को बंगाल के नववर्ष की आप सभी को शुभकामनाएं देता हूं. 2 मई को सोनार बांग्ला की शुरुआत होगी. ये वीर भूमि वीर राजा प्रतापी जी की जमीन है. महान लेखक विभूतिभूषण बन्धोपाद्याय जी को प्रणाम करना चाहता हूं. दीदी आजकल एक ही बात करती हैं कि अमित शाह (Amit Shah) इस्तीफा दें मगर आप तैयार रहो दीदी. 2 मई को आपको ही इस्तीफा देना पड़ जाएगा. बंगाल की जनता ने आपका 2 मई को राज्यपाल महोदय के यहां इस्तीफा देना तय कर दिया है.’

‘जनता धूमधाम से देगी दीदी को विदाई’

गृह मंत्री ने कहा, ‘बंगाल की युवा शक्ति आपके सामने लड़ रही है. बंगाल की जनता आपकी विदाई करने को तैयार है. दीदी की विदाई धूमधाम से करने के लिए बीजेपी को 200 सीट देनी जरूरी हैं. हमारी 199 सीट तो पक्की हैं, बशीरहाट जोड़ दोगे क्या इसमें? कुछ युवाओं ने दीदी के बहकावे में आकर बूथ पर हमला किया. CISF के हथियार छीनने की कोशिश की. मजबूरी में CISF को गोली चलानी पड़ी. इस घटना से कुछ ही दिन पहले उसी सीट पर ममता दीदी ने मीटिंग की थी. सरेआम ऐलान किया था कि CAPF आए तो उसे घेर लो. आप तो कहकर चली गईं लेकिन 4 युवाओं की जान चली गई.

ये भी पढ़ें- Sitalkuchi Incident: चुनाव आयोग पर भड़की ममता बनर्जी, कहा- सीतलकूची में ‘नरसंहार’ हुआ

‘वोट बैंक तुष्टिकरण की राजनीति खत्म होगी’

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) पर निशाना साधते हुए अमित शाह ने कहा, ‘TMC के गुंडों ने दिनदहाड़े गोली मारकर बीजेपी के कार्यकर्ता की हत्या कर दी. आप 4 लोगों के लिए रोती हो लेकिन पांचवां जो बीजेपी का मरा, उसके लिए आपके दिल में कोई सहानुभूति नहीं है. वोट बैंक तुष्टिकरण की राजनीति वालों को राज करने के लिए ज्यादा समय नहीं है. दलित समाज के लोगों को भिक्षा मांगने वाले कह रहे हैं आपके लोग. उस नेत्री को आज ही बर्खास्त करो. ये शरणार्थी जो आए हैं, उनको नागरिकता मिलने वाली है. मतुआ समाज, नामसूद्र समाज अन्य समाज के लोग, उनसे आपको क्या दिक्कत है दीदी. आपको दिक्कत ये है कि कहीं घुसपैठिए नाराज न हो जाएं.’