Breaking News

Rajasthan: 3 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव के लिए BJP-Congress को है जिताऊ चेहरे की तलाश

Jaipur: राजस्थान (Rajasthan) में एक के बाद दूसरे चुनाव के चलते आदर्श आचार संहिता (Model Code of Conduct) लगती जा रही है. अबकी बार मामला प्रदेश में तीन सीटों पर विधानसभा उपचुनाव का है.

यह भी पढ़ें- विधानसभा चुनावों में BJP को ऐसे मात देगी Rajasthan Congress, बनाई यह रणनीति!

आचार संहिता के चलते नये विकास कार्य (Development Works) और उनकी घोषणाएं रुक जाती हैं लेकिन राजनीतिक दलों का काम बढ़ जाता है. नेताओं की बैठकों का शेड्यूल लम्बा हो जाता है तो उनकी गाड़ी के पहिये भी एक क्षेत्र से दूसरे का सफर तय करने में जुट जाते हैं. इस आचार संहिता के बीच नेताओं और राजनीतिक दलों का एक ही आदर्श होता है और वह है जीत. इस बार के उपचुनाव में भी प्रत्याशी चयन की कवायद के बीच कांग्रेस और बीजेपी का सारा गुणा-भाग, जिताऊ प्रत्याशी का ही हिसाब-किताब लगा रहा है.

यह भी पढ़ें- Rajasthan: अब तीन की बजाय चार सीटों पर होंगे विधानसभा उपचुनाव, BJP ने फूंका बिगुल!

प्रदेश में विधानसभा की चार सीट खाली हैं. पिछले दिनों चार विधायकों के निधन के बाद खाली हुई सीटों में से तीन पर उपचुनाव होने हैं. 17 अप्रैल की तारीफ़ वोटिंग के लिए और 30 मार्च की तारीख़ चुनाव में प्रत्याशियों के पर्चा दाखिल करने के लिए तय हो चुकी है. इन तारीखों के बावजूद प्रत्याशियों का चुनाव अभी तक अन्तिम तौर पर नहीं हो सका है. सुजानगढ़, सहाड़ा और राजसमन्द सीट पर होने वाले चुनावों में कांग्रेस (Congress) और बीजेपी (BJP) दोनों ही अपना-अपना प्रत्याशी जिताना चाहती हैं और इसके लिए जिताऊ चेहरे की तलाश जारी है.

अजय माकन ने किया जीत का दावा
चुनाव की तारीखों के ऐलान से पहले ही दोनों पार्टियों के प्रमुख नेता चुनाव वाले क्षेत्रों में दौरे कर चुके हैं. बीजेपी मण्डल स्तर पर तो कांग्रेस ब्लॉक स्तर पर रायशुमारी कर चुकी है. दोनों ही पार्टियों के प्रदेश प्रभारी भी सक्रिय हैं. एक दिन पहले बीजेपी के प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह (Arun Singh) राजसमन्द और भीलवाड़ा (Bhilwara) ज़िले के कार्यकर्ताओं की बैठक लेकर गए तो सोमवार को अजय माकन ने मुख्यमन्त्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot), पीसीसी चीफ गोविन्द सिंह डोटासरा से चर्चा की तो चार सीटों के प्रभारियों और सरकार के मन्त्रियों से पीसीसी में मंथन किया. माकन ने जीत का दावा करते हुए बताया उन्होंने प्रदेश नेतृत्व से कहा है कि जल्द ही दावेदारों के नाम का पैनल बनाकर भेजेंगे तो सेन्ट्रल इलेक्शन कमेटी से प्रत्याशी के नाम पर मुहर लगवाई जा सकेगी.

बीजेपी में भी जारी है बैठकों का दौर
उधर बीजेपी में भी बैठकों का दौर सोमवार को भी जारी रहा. इससे पहले राजसमन्द और भीलवाड़ा में बैठकें लेने के बाद रविवार को बीजेपी के प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह ने भी पार्टी के प्रमुख नेताओँ से मन्त्रणा की. बीजेपी विपक्ष में है लिहाजा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया कहते हैं कि गवर्नेन्स देने में सरकार की नाकामी इस चुनाव में बड़ा मुद्दा होगी.

उधर सरकार के मन्त्री और कांग्रेस नेता रघु शर्मा (Raghu Sharma) का कहना है कि गुड गवर्नेंस के साथ ही इस बार के बजट के बाद तो जनता में सरकार की वाहवाही हो रही है. रघु शर्मा ने कहा कि अभी की तीन सीटों पर और बाद में वल्लभनगर पर भी कांग्रेस ही जीतेगी. अभी जिन तीन सीटों पर चुनाव हो रहा है. उनमें से दो पर कांग्रेस और एक पर बीजेपी काबिज थी. दोनों ही पार्टियां अबकी बार के चुनाव में अपना आंकड़ा बढ़ाना चाहती है.

इधर पार्टियों में मंथन का एक विषय यह भी है कि प्रत्याशी का नाम दिवंगत विधायक के परिवार से ही तय किया जाए या पार्टी के दूसरे कार्यकर्ता को मौका दिया जाए?

बहरहाल, सुजानगढ़ पर कांग्रेस और बीजेपी के प्रत्याशी तय हैं लेकिन सहाड़ा और राजसमन्द में कांग्रेस और बीजेपी दोनों ही प्रत्याशियों के ऐलान के लिए वेट एण्ड वॉच की पॉलिसी पर चलते हुए सामने वाले प्रत्याशी का इन्तज़ार कर रही हैं.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *