Breaking News

UP पंचायत चुनाव: पुलिस का एक्‍शन प्‍लान, पुलिस खंगाल रही है दावेदारी करने वालों के क्रिमिनल रिकॉर्ड

प्रयागराज: यूपी पंचायत चुनाव आरक्षण सूची जारी होते ही पुलिस ने भी अपराधियों पर शिकंजा कसने की कवायद शुरू कर दी है. पुलिस के आला अधिकारियों ने सभी थानों को पुराने अपराधियों की कुंडली खंगालने के निर्देश दिए हैं, ताकि चुनाव के दौरान किसी तरह की गड़बड़ी और घटना न हो सके. इसके साथ ही पंचायत चुनाव में अलग-अलग पदों पर दावेदारी करने वालों के खिलाफ भी दर्ज मुकदमे की जानकारी जुटाई जा रही है.

पुलिस तैयार कर रही है एक्शन प्लान 
यूपी पंचायत चुनाव को पुलिस शांतिपूर्ण और निष्पक्ष कराने के लिए पुलिस ने एक एक्शन प्लान तैयार कर रही है, जिसे जरूरत के अनुसार लागू किया जाएगा. दरअसल, चुनाव के दौरान ऐसी शिकायतें हमेशा पुलिस को मिलती रही हैं कि अपराधिक प्रवृत्ति के लोग और अपराधी मतदाताओं को प्रभावित करने का प्रयास करते हैं. डीआईजी सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी के मुताबिक पंचायत चुनावों में जिन्होंने भी कभी किसी घटना को अंजाम दिया है. पुलिस ने ऐसे लोगों खासतौर पर चिन्हित करके कानूनी शिकंजा कसने की तैयारी शुरू कर दी है.

जब गर्भवती थी पत्नी तब मार दी थी पेट में लात, अब शक में सिल दिया प्राइवेट पार्ट, पढ़िए हैवानियत की पूरी कहानी

ग्रामीण इलाकों में शुरू हुई यूपी पंचायत चुनाव की तैयारी 
यूपी पंचायत चुनाव आरक्षण की फाइनल लिस्ट जारी होने के बाद ग्राम प्रधान, क्षेत्र पंचायत सदस्य और जिला पंचायत सदस्य के अलग-अलग पदों को लेकर रस्साकस्सी तेज हो गई है. ग्रामीण इलाकों में तेजी से चुनाव प्रचार भी शुरू हो गया है. चुनावी समर में कूदने की तैयारी कर रहे दावेदार धनबल और बाहुबल के दम पर खुद की जीत सुनिश्चित करने के लिए हर जतन कर रहे हैं.

UP पंचायत चुनाव: ‘कालीन भैया’ के जिले में भी हुआ उलटफेर, यहां देखें आरक्षण लिस्ट

पुलिस खंगाल रही है  क्रिमिनल रिकॉर्ड
पुलिस के मुताबिक पंचायत चुनाव में अपराधी प्रवृति के लोगों पर प्रभावी कार्रवाई और जरूरी कदम उठाने के लिए योजना बद्ध तरीके से संबंधित थानों को निर्देश दिए गए है. ताकि किसी तरह के विवाद की स्थिति न बन सके. डीआईजी ने बताया कि पंचायत चुनाव को लेकर पुराने अपराधियों का भी क्रिमिनल रिकॉर्ड खंगाला जा रहा है. साथ ही लाइसेंसी शस्त्रों को जमा कराने और उनके खिलाफ दर्ज मुकदमे और उनकी मौजूदा गतिविधि के अनुसार कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं. ताकि शांतिपूर्ण तरीके से पंचायत चुनाव संपन्न कराए जा सकें. डीआईजी सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी ने कहा कि जो थानाध्यक्ष लाइसेंसी असलहे नहीं जमा कराएंगे उनके खिलाफ कार्रवाई की जायेगी.

प्रातिक्रिया दे