Breaking News

गर्मियां शुरू होते ही PHED में भ्रष्टाचार का खेल, Bagru विधायक ने मंत्री से की शिकायत

Jaipur: राजस्थान (Rajasthan) में गर्मियां शुरू होते ही पीएचईडी (PHED) में भ्रष्टाचार (Corruption) का खेल शुरू हो गया है. इंजीनियर्स की मिलीभगत के चलते टैंकरों के टेंडर में जमकर गफलत कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें- राजस्थान: PHED में 3 करोड़ की टंकी में बह रहा ‘भ्रष्टाचार’, MNIT से नमूने पास करा काम शुरू

कुछ ऐसा ही मामला सामने आया है बगरू टैंकर जल परिवहन (Bagru Tanker Water Transport) के 1 करोड़ 75 लाख के टेंडर में. बगरू विधायक गंगा देवी ने इस संबंध में जलदाय मंत्री बीडी कल्ला (BD Kalla) को पत्र लिखकर जांच की मांग की.

यह भी पढ़ें- इंजीनियर्स की पॉलिटिक्स में उलझी DPC, अब PHED में अगले साल ही प्रमोशन के आसार

गंगादेवी की चिट्ठी से पीएचईडी में हलचल
बगरू विधायक गंगा देवी (Ganga Devi) की चिट्ठी के बाद पीएचईडी विभाग में हलचल तेज हो गई है. गंगादेवी ने पीएचईडी की जल परिवहन टेंडर व्यवस्था पर सवाल उठाए हैं. विधायक ने जलदाय मंत्री बीडी कल्ला को पत्र लिखकर अधीक्षण अभियंता पर आरोप लगाते हुए कहा है कि नियमों के खिलाफ जाकर इंजीनियर अपने चहेतों को टेंडर दे रहे हैं. पूरे मामले शिकायत के बाद विभाग के एसीएस सुधांश पंत ने जांच के आदेश दे दिए. मामले की जांच अतिरिक्त मुख्य अभियंता मनीष बेनीवाल (Manish Beniwal) कर रहे हैं.

भ्रष्टाचार का लीकेज, मामला समझें
पीएचईडी ने बगरू में पेयजल सप्लाई (Drinking water supply) के लिए एक करोड 75 लाख रुपये का टेंडर आमंत्रित किया था. टेंडर 8 फरवरी तक भरे जाने थे, लेकिन आखिरी वक्त पर टेंडर स्थगित करते हुए नई तारीख 19 फरवरी तय हुई. इसी दौरान 16 फरवरी को बालाजी कंस्ट्रक्शन कंपनी का बी से ए श्रेणी में रजिस्ट्रेशन हो गया ताकि वह टेंडर में भाग ले सके जबकि फर्म के खिलाफ चारदीवारी क्षेत्र में गडबडी की जांच के बाद चीफ इंजीनियर से डिबार की सिफारिश की गई है.

पिछले साल केवल 60 लाख का हुआ था टेंडर
पिछले साल बगरू में टैंकरों से पानी सप्लाई पर 60 लाख का टेंडर हुआ था. तब कॉन्ट्रेक्टर ने 35 फीसदी कम रेट यानि 39 लाख में ही काम हुआ लेकिन इस बार इंजीनियरों ने 1.75 करोड का टेंडर आमंत्रित किया और यह काम 14 प्रतिशत ज्यादा रेट यानि 2 करोड़ रुपये देने की तैयारी है. ऐसे में अब जांच के बाद साफ हो पाएगा कि क्या टेंडर में इंजीनियर्स की मिलीभगत के चलते विभाग में खेल चल रहा है?

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *