Breaking News

MP की सियासत में ओवैसी की एंट्री, AIMIM लड़ेगी निकाय चुनाव, इन इलाकों में पार्टी हुई एक्टिव

भोपालः हैदराबाद से लोकसभा सांसद असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी (ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलमीन) AIMIM मध्य प्रदेश के नगरीय निकाय चुनाव लड़ने की तैयारी में है. राजधानी भोपाल में पार्टी का दफ्तर भी खोला गया है. एमआईएम ने पार्टी का ऑनलाइन सदस्यता अभियान भी शुरू कर दिया गया है. सदस्यता अभियान के लिए एक AIMIM ने एक मोबाइल एप बनाया है जिसके जरिए पार्टी में लोगों को जोड़ा जाएगा. वहीं मध्य प्रदेश में ओवैसी की एंट्री पर कांग्रेस और बीजेपी ने निशाना साधा है.

पूरी ताकत से लड़ेंगे निकाय चुनाव
भोपाल में AIMIM सदस्यता अभियान को लेकर  पार्टी के जिला अध्यक्ष ताहिर अनवर का कहना है कि ” मुस्लिम वर्ग को पिछले 70 सालों से वोट बैंक समझा गया. किसी ने हमारे हितों पर ध्यान नहीं दिया. इसलिए एमआईएम अब प्रदेश में सक्रियता बढ़ा रही है. उन्होंने कहा कि राजधानी भोपाल में पार्टी का ऑफिस भी खोला गया है. जबकि मोबाइल एप के जरिए पूरे शहर में सदस्यता अभियान शुरू किया जा रहा है, इसके अलावा अल्पसंख्यक क्षेत्रों में वर्चुअली मीटिंग्स का आयोजन भी किया जाएगा. लोग हमसे जुड़ रहे हैं हम पूरी दम से नगरीय निकाय चुनाव में उतरेंगे. ”

कांग्रेस ने साधा निशाना
वहीं ओवैसी की पार्टी की मध्य प्रदेश  में बढ़ती सक्रियता पर पूर्व मंत्री और कांग्रेस विधायक पीसी शर्मा ने निशाना साधा. उन्होंने कहा कि ”मध्यप्रदेश में कांग्रेस के मुस्लिम लीडर आरिफ अकील और आरिफ मसूद मुस्लिम समाज को नहीं टूटने देंगे. पीसी शर्मा ने कहा कि एमआईएम की मध्य प्रदेश में एंट्री बीजेपी की प्लानिंग है. लेकिन मध्यप्रदेश में उनके मंसूबे कामयाब नहीं होंगे. कांग्रेस का एक परसेंट वोट भी नहीं कटेगा. ओवैसी मध्य प्रदेश में आकर एक वोट भी नहीं काट पाएंगे क्योंकि एमपी में कांग्रेस की मुस्लिम लीडरशिप बहुत मजबूत है. मध्य प्रदेश में ओवैसी का मोबाइल एप नहीं चलेगा.”

ये भी पढ़ेंः होली के रंग में कोरोना ने डाला भंग, इस बार घर पर ही मनाना होगा त्योहार, मेलों का आयोजन रद्द

बीजेपी ने भी साधा AIMIM पर निशाना
कांग्रेस के अलावा बीजेपी ने भी मध्य प्रदेश में एमआईएम की एंट्री पर निशाना साधा. बीजेपी विधायक रामेश्वर शर्मा ने कहा कि  ”मध्य प्रदेश में ओवैसी का क्या लेना-देना, एमपी में अलगाववाद नहीं, बल्कि राष्ट्रवाद चलेगा, बीजेपी विधायक ने कहा कि उनकी ओवैसी से हाथ जोड़कर प्रार्थना है कि वह हैदराबाद में ही रहे एमपी में ना आए, क्योंकि जितनी भी अलगाववादी शक्तियां देश में पैदा हुई है वह कांग्रेस की देन है. इसलिए वह कहना चाहते हैं कि मध्य प्रदेश में ओवैसी को नहीं आना चाहिए. ”

मध्य प्रदेश में निकाय चुनाव की तैयारियों में जुटी है AIMIM
मध्य प्रदेश में होने वाले नगरीय निकाय चुनाव में हैदराबाद सांसद असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) भी ताल ठोकने की तैयारी में है. मध्य प्रदेश के मुस्लिम बहुल इलाकों में AIMIM एक्टिव हो गई है. नगरीय निकाय चुनाव में पार्षद जितवाने के लिए एआईएमआईएम की धुआंधार बैठकों के साथ सदस्यता अभियान जोरों पर चल रहा है. जगह-जगह AIMIM अपने प्रभारियों की नियुक्ति कर रही है. मुस्लिम उलेमाओं के सहारे राज्य में अपने पैर जमाने की पूरी कोशिश एआईएमआईएम कर रही है. इसके चलते कांग्रेस और बीजेपी की मुश्किले बढ़ सकती है. क्योंकि नगरीय निकाय चुनाव में AIMIM दोनों पार्टियों का समीकरण बिगड़ सकती है.

एमपी के मुस्लिम बहुल इलाके पर AIMIM  की नजर
AIMIM  की नजर मध्य प्रदेश के मुस्लिम बहुल सीटों पर है. इनमें इंदौर, भोपाल, उज्जैन, खंडवा, बुरहानपुर, खरगोन, रतलाम, जावरा, जबलपुर, बालाघाट और मंदसौर प्रमुख हैं. AIMIM  एमपी नगरीय निकाय चुनावों में अपने कितने उम्मीदवार उतारेगी, इसका अंतिम फैसला पार्टी अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी करेंगे. फिलहाल पार्टी ने मोबाइल एप के जरिए पार्टी का सदस्यता अभियान शुरू कर दिया है.

ये भी पढ़ेंः MP में चलेगा ‘मेरा घर-मेरी होली’ अभियान, आयोजनों में 20 से ज्यादा लोगों की अनुमति नहीं

प्रातिक्रिया दे