Breaking News

उद्धव सरकार के लिए गंभीर संकट का सबब बनेगा परमबीर का पत्र और वाट्सएप चैटिंग

शिवसेना के लिए राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से संबंध बिगाड़ने की कीमत चुकानी पड़ सकती है। निश्चित रूप से केंद्र उनसे पूरे मामले पर रिपोर्ट लेगा। यह रिपोर्ट किसी भी स्थिति में तीन पाए पर चल रही उद्धव सरकार को राहत देने वाली नहीं होगी।

मिड डे, मुंबई। गठन के बाद पिछले 15 महीनों से किसी न किसी मुद्दे पर विवादों में रहने वाली शिवसेनानीत महाविकास अघाड़ी सरकार के लिए परमबीर सिंह का आठ पेज का पत्र गंभीर संकट का सबब बनने वाला है। भले ही मुख्यमंत्री कार्यालय ने इस पत्र की प्रमाणिकता को लेकर संदेह जताया हो, लेकिन मुंबई से लेकर दिल्ली तक और पूरे देश में जो सवाल उठ रहे हैं उनके जवाब देने में उद्धव सरकार को लेने के देने पड़ने वाले हैं।

परमबीर की चिट्ठी ने जो ठेस पहुंचाई है उसकी भरपाई उद्धव सरकार के लिए कठिन होगी

परमबीर की चिट्ठी ने सरकार की विश्वसनीयता और कानून व्यवस्था संभालने की काबिलियत को जो ठेस पहुंचाई है उसकी भरपाई उद्धव सरकार के लिए बहुत कठिन होगी। विपक्ष के हमलों की धार कुंद करने को उद्धव सरकार को तत्काल कुछ बड़े कदम उठाने होंगे। ऐसा न करने पर समस्याएं और विकराल होंगी।

शिवसेना के लिए राज्यपाल से संबंध बिगाड़ने की कीमत चुकानी पड़ सकती है

शिवसेना के लिए राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से संबंध बिगाड़ने की कीमत चुकानी पड़ सकती है। निश्चित रूप से केंद्र उनसे पूरे मामले पर रिपोर्ट लेगा। यह रिपोर्ट किसी भी स्थिति में तीन पाए पर चल रही उद्धव सरकार को राहत देने वाली नहीं होगी।

मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने भी की देशमुख के इस्तीफे की मांग

राज्य में प्रमुख विपक्षी दल भाजपा तो सरकार पर हमलावर है ही कभी शिवसेना का हिस्सा रहे और वर्तमान में महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के प्रमुख राज ठाकरे ने भी अनिल देशमुख के इस्तीफे की मांग कर दी। उन्होंने गृह मंत्री के खिलाफ उच्चस्तरीय जांच की मांग भी की है।

घटनाओं का सिलसिला बहुत दूर तक जाएगा: अमृता फड़नवीस

उधर प्रेट्र के अनुसार पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस की पत्नी अमृता फड़नवीस ने ट्वीट कर कहा कि परमबीर के पत्र से घटनाओं का जो सिलसिला शुरू हुआ है वह बहुत दूर तक जाएगा। आखिर ‘राजा’ को बचाने के लिए कितने लोगों की बलि दी जाएगी।

केंद्रीय मंत्री आठवले ने की महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन की मांग

एएनआइ के अनुसार केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले ने परमबीर प्रकरण के बाद महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन की मांग की है। उन्होंने कहा कि वे अपनी मांग को लेकर सोमवार को गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिखेंगे। उन्होंने कहा कि परमबीर सिंह के सभी आरोपों की जांच होनी चाहिए। साथ ही इतना बड़ा आरोप लगने के बाद अनिल देशमुख को अपने पद पर रहने का कोई हक नहीं है। उन्हें तत्काल गृह मंत्री पद से इस्तीफा दे देना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि सचिन वझे और शिवसेना की सांठगांठ सामने आने के बाद मुख्य मंत्री उद्धव ठाकरे को भी पद पर बने रहने का हक नहीं रह गया है।

एसीपी संजय पाटिल और परमबीर के बीच हुई वाट्सएप चैटिंग 

मुंबई पुलिस के पूर्व कमिश्नर परमबीर सिंह ने अपने पत्र में वसूली का आरोप साबित करने के लिए सोशल सर्विस ब्रांच के एसीपी संजय पाटिल के साथ हुई वाट्सएप चैट का जो ब्योरा दिया वह तारीखवार इस प्रकार है..

परमबीर :(16 मार्च 2021, शाम 4.59 बजे): पाटिल, फरवरी में जब आप गृह मंत्री सर और पलांदे से मिले थे तो उन्होंने कितने बार और प्रतिष्ठानों का जिक्र किया था। उन्हें कितनी रकम की उम्मीद है।

प्रातिक्रिया दे