Breaking News

Kerala Election 2021: BJP के 2 कैंडिडेट्स का नॉमिनेशन खारिज, कांग्रेस ने वामदलों पर साधा निशाना

 

तिरुवनंतपुरम: केरल में बीजेपी के नेतृत्व वाले राजग को एक बड़ा झटका देते हुए निर्धारित केंद्रों पर दो बीजेपी उम्मीदवारों और उसके एक सहयोगी अन्नाद्रमुक के नामांकन पत्रों को जांच के दौरान अमान्य घोषित कर दिया गया. इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए बीजेपी ने कहा कि वह इस पर कानूनी कार्रवाई करेगी. राज्य में इस साल के चुनावों में सत्तारूढ़ वाम दलों और कांग्रेस के नेतृत्व वाले यूडीएफ के बीच सीधा मुकाबला होगा. नामांकन पत्रों की जांच के बाद कांग्रेस और माकपा के नेताओं में आरोप-प्रत्यारोप शुरू हो गया. उन्होंने आरोप लगाया कि नामांकन खारिज किया जाना गुप्त बीजेपी गठबंधन का एक हिस्सा था. 

बीजेपी के दो, AIADMK के एक प्रत्याशी का नामांकन खारिज

कन्नूर जिले के थालास्सेरी में बीजेपी (BJP) उम्मीदवार एन. हरिदास का नामांकन अवैध पाया गया और इसलिए वह चुनाव नहीं लड़ पाएंगे. यह भगवा पार्टी के लिए एक झटके के रूप में आया है, क्योंकि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह थालास्सेरी में प्रचार करने वाले थे. वर्ष 2016 के विधानसभा चुनावों में बीजेपी ने कन्नूर जिले से सबसे अधिक 22,125 वोट हासिल किए. इसी तरह, गुरुवायूर निर्वाचन क्षेत्र के बीजेपी उम्मीदवार निवेदिता के नामांकन पत्र को अवैध पाया गया, क्योंकि प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष के. सुरेंद्रन के हस्ताक्षर नामांकन पर नहीं थे. 2016 के विधानसभा चुनावों में बीजेपी उम्मीदवार ने 25,490 वोट हासिल किए थे. तीसरा निर्वाचन क्षेत्र जहां नामांकन पत्र अवैध पाए गए थे, वह इडुक्की जिले में देवीकुलम था और यहां वह बीजेपी के सहयोगी अन्नाद्रमुक के उम्मीदवार आर.एम. धनलक्ष्मी थे, जो 2016 के चुनावों में तीसरे स्थान पर रहे और 11,613 वोट हासिल किए. वर्ष 2016 में अन्नाद्रमुक बीजेपी की सहयोगी नहीं थी, लेकिन इस बार वह एनडीए का हिस्सा है और अच्छा प्रदर्शन करने की उम्मीद कर रही है.

ये भी पढ़ें: मुंबई: पूर्व कमिश्नर और ACP की वह चैट, जिसमें खुला गृह मंत्री Anil Deshmukh के 100 करोड़ मांगने का राज

6 अप्रैल को मतदान, 2 मई को मतगणना

बहरहाल, यह खबर सामने आते ही कन्नूर में माकपा के जिला सचिव एम.वी. जयराजन ने कहा कि यह कांग्रेस और बीजेपी के बीच गुप्त समझ को दर्शाता है. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मुल्लापल्ली रामचंद्रन ने हालांकि, माकपा और बीजेपी के बीच एक समझौते का आरोप लगाया. रामचंद्रन ने कहा कि सत्ता को बनाए रखने के लिए माकपा किसी भी सौदे का सहारा लेगा और यह संघ परिवार के साथ भी चला जाएगा. अगर कुछ निर्वाचन क्षेत्रों में कोई बीजेपी के उम्मीदवारों पर नजर डाले तो यह स्पष्ट हो जाता है कि उनके बीच एक कोई सौदा हुआ है. केरल विधानसभा चुनाव 6 अप्रैल को होंगे और मतगणना 2 मई को होगी.

प्रातिक्रिया दे