Breaking News

Maharashtra के गृह मंत्री पर पूर्व सीपी Param Bir Singh का बड़ा आरोप, कहा- हर महीने मांगते थे 100 करोड़

मुंबई: महाराष्ट्र (Maharashtra) में एंटीलिया केस और मनसुख हिरेन की मौत (Mansukh Hiren Death Case) के मामले ने सूबे का सियासी पारा एक बार फिर गर्मा दिया है. इस बीच मुंबई (Mumbai) के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह (Param Bir Singh) ने महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) पर गंभीर आरोप लगाए हैं. परमबीर सिंह ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को एक पत्र लिखा है, जिसमें कहा गया है कि अनिल देशमुख हर महीने 100 करोड़ रुपये मांगते थे. पत्र में उन्होंने ये भी लिखा है कि सचिन वझे (Sachin Vaze) को अनिल देशमुख ने ही आदेश दिया था.

100 करोड़ महीना वसूली का टारगेट: परमबीर सिंह

परमबीर सिंह ने सीएम उद्धव ठाकरे को लिखे पत्र में कहा, ‘सचिन वझे को अनिल देशमुख ने वसूली करने को कहा था. सचिन वझे ने खुद मुझे इस बारे में बताया था.’ परमबीर सिंह ने आरोप लगाया कि अनिल देशमुख ने सचिन वझे को कई बार उनके सरकारी निवास पर बुलाया था और हर महीने 100 करोड़ की वसूली का टारगेट दिया था. आरोप के मुताबिक, ‘देशमुख ने वझे से ये कहा था कि मुंबई में 1750 बार और रेस्टारेंट हैं. हर एक से दो-तीन लाख रुपये महीना वसूला जाए तो 50 करोड़ बन जाते हैं  बाकि रकम अन्य जगह यानी सोर्स से वसूली जा सकती है.’

ये भी पढ़ें- Antilia Bomb Scare: एनआईए ने शुरू की Mansukh Hiren डेथ केस की जांच, MHA ने जारी किए थे आदेश

सांसद सुसाइड केस में भी बनाया दबाव

परमबीर सिंह ने पत्र में दादरा नगर हवेली के सांसद मोहन डेलकर के सुसाइड केस में भी दबाव डालने का आरोप लगाया. परमबीर सिंह के आरोपों के मुताबिक गृहमंत्री अनिल देशमुख पहले दिन से ही चाह रहे थे कि खुदकुशी के लिए उकसाने का मामला दर्ज हो. परमबीर सिंह ने इस मामले में लिखा, ‘मेरी राय थी कि अगर किसी तरह का खुदकुशी के लिए उकसाने का काम हुआ भी है तो ये मामला मुंबई की बजाय दादरा नगर हवेली में दर्ज होना चाहिए.’

गृह मंत्री की सफाई

इस बीच राज्य के गृह मंत्री देशमुख ने आरोपों से इनकार किया है. उन्होंने ट्वीट करके इन आरोपों को बेबुनियाद करार दिया है. देशमुख ने लिखा कि संबंधित मामलों में खुद को बचाने के लिए ये भ्रामक आरोप लगाए गए हैं.

बीजेपी ने मांगा इस्तीफा

ताजा घटनाक्रम के बीच सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री देवेद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) ने इस पूरे घटनाक्रम को लेकर अनिल देशमुख के इस्तीफे की मांग की है. फडणवीस ने कहा, ‘महाराष्ट्र में शायद ये ऐसा पहला मामला है जब किसी बड़े पुलिस अधिकारी ने इतने गंभीर आरोप लगाते हुए सीएम को पत्र लिखा हो, ऐसे में परमबीर सिंह के ये खुलासे जिलेटिन की छड़ों से भी ज्यादा विस्फोटक हैं. इसलिए फौरन देशमुख को पद से हटाने के साथ पूरे मामले की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए.’

नार्को टेस्ट की मांग

गृह मंत्री अनिल देशमुख पर वसूली के आरोप और आरोपों पर उनकी सफाई के बाद बीजेपी सांसद मनोज कोटक का बयान सामने आया है. उन्होंने कहा, ‘ये एक्सटॉर्शन की सरकार है इस चिट्ठी से ये सच सामने आया है. इसलिए देशमुख, परमबीर सिंह और सचिन वझे तीनों का नार्को टेस्ट होना चाहिए.’

प्रातिक्रिया दे