Breaking News

इन छात्रों को स्कूल में ही मिलेगा नाश्ता, परीक्षाओं को ध्यान में रखते हुए लिया गया फैसला

भोपालः बोर्ड परीक्षाओं को देखते हुए मध्य प्रदेश में 10वीं और 12वीं की कक्षाओं का समय बदला गया है. स्कूल सुबह 9 बजे से 5 बजे तक लग रहे हैं. ऐसे में अब स्कूल शिक्षा विभाग ने 10वीं और 12वीं के छात्रों को लेकर एक और बड़ा फैसला लिया है. अब स्कूल खुलने के बाद छात्रों को नाश्ता भी दिया जाएगा.

10वीं और 12वीं के छात्रों को स्कूल में ही मिलेगा नाश्ता
स्कूल शिक्षा विभाग की तरफ से प्रदेश के सभी स्कूलों में यह आदेश जारी किया गया है, 10वीं और 12वीं के छात्रों को स्कूल खुलने के बाद नाश्ता दिया जाए, सुबह 10 बजे सभी छात्रों को नाश्ता दिया जाएगा. ताकि छात्रों को पढ़ाई के दौरान परेशानी भी न हो और उनके समय की बचत भी हो सके. स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारियों का कहना है कि यह फैसला छात्रों की पढ़ाई को ध्यान में रखते हुए लिया गया है. हालांकि नाश्ते में क्या-क्या दिया जाएगा इसका मेन्यू अब तक नहीं आया है.

सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक लग रही हैं कक्षाएं  
मध्य प्रदेश लोक शिक्षण संचालनालय की तरफ से आदेश जारी कर स्कूलों का समय बदल दिया गया था. जिसमें बताया गया है कि अब मध्य प्रदेश में दसवीं ओर बारहवीं की कक्षाएं सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक संचालित होंगी. लोक शिक्षण संचालनालय की तरफ से जारी गए आदेश में बताया गया है कि कोरोना के चलते पिछले 6 महीने से क्लासें नहीं लगने के चलते ध्यापन कार्य में कमी आई है. इस कमी को पूरा करने के लिए ही दसवीं और बारहवीं की क्लासों का समय बढ़ाया गया है. जिसके बाद से ही स्कूल सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक ही लग रहे हैं.

ये भी पढ़ेंः MP: एक अप्रैल से नहीं शुरू हो पाएगा स्कूलों का नया सत्र, जानें वजह

दरअसल, कोरोना की वजह से इस साल स्कूल करीब 6 महीने तक नहीं लगे. ऐसे में विद्यार्थियों का कोर्स भी पूरा नहीं हो पाया. अब परीक्षाओं का समय भी नजदीक आ रहा है. ऐसे में विद्यार्थियों को ज्यादा से ज्यादा पढ़ाया जाए यही वजह है कि स्कूलों का समय बदला गया है. ऐसे में छात्रों को स्कूल में ही नाश्ता भी उपलब्ध कराया जाएगा.

परीक्षाओं की तैयारी पर दिया जा रहा जोर 
दरअसल, अब परीक्षाओं का समय नजदीक आ रहा है. ऐसे में स्कूल शिक्षा विभाग अब परीक्षाओं की तैयारियों में जुट गया है. ऐसे में छात्र ज्यादा से ज्यादा पढ़ाई कर सकें इस तरफ ध्यान दिया जा रहा है. स्कूल शिक्षा मंत्री  इंदर सिंह परमार ने कहा कि इंदौर भोपाल जैसे बड़े शहरों के जिन क्षेत्रों में संक्रमण ज्यादा है. वहां के स्कूलों को लेकर अलग गाइडलाइन बनाई जाएगी. मंत्री ने कहा कि जिन स्कूलों में ज्यादा बच्चे हैं, वहां दो शिफ्ट में स्कूल चलाने पर भी विचार किया जाएगा. इसको लेकर जल्द ही स्कूल संचालकों से चर्चा की जाएगी.

ये भी पढ़ेंः आजकल के युवा इन शब्दों का करते हैं खूब इस्तेमाल, जानिए क्या होता है इनका मतलब

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *