Breaking News

Ranthambore Trinetra Ganesh Temple जाने वाली जीपों-कैंटर चालकों में विवाद, जानें वजह

Sawai Madhopur: सवाई माधोपुर के रणथंभौर त्रिनेत्र गणेश मंदिर (Ranthambore Trinetra Ganesh Temple) जाने वाली जीप यूनियन तथा कैंटर चालकों के बीच उस वक्त विवाद हो गया, जब बरसों से गणेश धाम से लेकर रणथंभौर दुर्ग तक जाने वाली जीपों के बीच कैंटर चालकों ने भी अपने कैंटर इसी सड़क पर दौड़ाने की ठान ली. ऐसे में जीप यूनियन और कैंटर यूनियन के बीच तनाव के हालात पैदा हो गए.

यह भी पढ़ें- Karauli Samachar: बदमाशों ने की युवक से पहले मारपीट, फिर लूट लिए 50 हजार

सवाई माधोपुर के रणथंभौर दुर्ग स्थिति त्रिनेत्र गणेश मंदिर जाने के लिए बरसों से गणेश धाम से लेकर रणथंभौर दुर्ग स्थित त्रिनेत्र गणेश मंदिर जाने के लिए जीपो का संचालन बेरोकटोक होता चला आया है. लगभग 300 जीप इस मार्ग पर निर्बाध रूप से संचालित होती चली आई हैं लेकिन विवाद और तनाव उस वक्त पैदा हो गया, जब परिवहन अधिकारी द्वारा कैंटर को इसी रूट पर जाने की इजाजत दे दी गई. ऐसे में जीप चालकों को यह नागवार गुजरा और उन्होंने जबरन कैंटर के रास्ते रोक दिए.

यह भी पढ़ें- Bharatpur: एक-दूसरे के प्यार में पागल है यह जोड़ा, ‘लव मैरिज’ के बाद उठाया यह कदम

माहौल बिगड़ता देख मौके पर कोतवाली पुलिस बुलवानी पड़ी, जहां पर दोनों ही पक्षों के बीच समझाइश कर मामला समझाने की कोशिश की गई लेकिन दोनों पक्ष आमने-सामने डटे रहे. वहीं, कैंटर चालक गणेश धाम पर ही धरने पर भी बैठ गए. ऐसे में आला पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे, जहां एसडीएम कपिल शर्मा (Kapil Sharma) तथा डिप्टी नारायण तिवारी द्वारा बैठक आयोजित की गई.

इस बैठक में फिलहाल कैंटर चालकों को इस रूट पर जाने की सख्त मनाही कर दी गई. इसके अलावा जीप संचालन का एक रोस्टर तय किया गया, जिसमें 7 सवारी से अधिक की अनुमति नहीं होगी. इसके अलावा जीप संचालन में कोरोना की गाइड लाइन का पालन करना भी सुनिश्चित किया गया.
बहरहाल, पुलिस द्वारा जीप यूनियन के पदाधिकारियों को व्यवस्थाओं के बीच गाड़ियां चलाने हेतु पाबंद किया गया है हालांकि जीप यूनियन द्वारा लगभग दो से तीन दशक पुरानी जीप संचालित की जा रही है जो कि यात्रियों के लिए जान का खतरा भी बन सकती हैं. ऐसे में अब देखने वाली बात यह होगी कि यह व्यवस्थाएं सुचारू रूप से कब तक चल पाती हैं और प्रशासन किस तरह से मामले का पटाक्षेप कर पाता है?

Reporter- Arvind Singh

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *