Breaking News

Alwar Samachar : गरीबों के पेट पर अमीरों की लात, अब होगी वसूली

Alwar : कोई भी इंसान भूखा न रहे. इसके लिए सरकार (Government) की ओर से 2 रूपए किलो राशन दिया जाता है. सरकार भी ये उम्मीद करती होगी कि कोई गरीब भूखा न सोए, लेकिन प्रदेश के अलग-अलग जिलों से रिपोर्ट सामने आ रही है वो हैरान करने वाली है. ऐसी ही एक रिपोर्ट अलवर से सामने आई है. यहां गरीबों के हिस्से का राशन अमीर खा गए.

आजाद भारत में गरीबों के कल्याण के लिए भूखे पेट तक भोजन पहुंचाने के लिए तमाम सरकारी योजनाएं बनी, लेकिन वो योजनाएं जमीन तक आते आते फिर अमीरों के हिस्से चली गई. गरीब फिर खाली हाथ रहा. एक उम्मीद के सहारे कि अमीरों के ऊंचे महलों की छाया में हम भी जिंदगी गुजार लेंगे. गरीबों को मिलने वाले फ्री राशन (Free Ration) पर भी अमीरों ने डाका डाल दिया.

ये भी पढ़ें: Rajasthan ‘One Nation, One Ration Card’ लागू करने वाला बना 12वां राज्य

ये हैरान करने वाली रिपोर्ट है कि सरकार की ओर से गरीबों को भेजा गया 2 रूपए किलो वाले राशन पर एमबीबीएस डॉक्टर, रिटायर डिशनल RTO से लेकर उच्च पदों पर बैठे सरकारी अधिकारियों (Government employees) ने डाका डाल दिया. संपन्न लोग गरीबों के हिस्से का राशन ले गए.

जिला स्तर पर जिन लोगों की सूची तैयार की गई है. उनसे 27 रूपए किलो के हिसाब से वसूली की जाएगी. इसमें अब तक 2 करोड़ रूपए से ज्यादा की वसूली की जा चुकी है और बाकी के खिलाफ कार्रवाई का सिलसिला जारी है.

कई कर्मचारी तो ऐसे भी हैं जो नौकरी बचाने के लिए खुद ही रसद विभाग के चक्कर काट रहे हैं ताकि लिस्ट से अपना नाम कटवाया जा सके और चालान के माध्यम से अपना पैसा जमा करवा ले, लेकिन इन सबके बीच एक और गंभीर सवाल भी सामने आया है. कई सरकारी कर्मचारी ऐसे हैं जो ये दावा कर रहे हैं कि वसूली भले ही हमसे हो जाए, लेकिन हमने तो कभी राशन उठाया ही नहीं. ऐसे में सवाल ये है कि आखिर ये राशन गया कहां, ये राशन कौन खा गया और इसका सवाल रसद विभाग (Logistics Department) पर उठ रहा है.

ये भी पढ़ें: Ration Dealers को करनी होगी 48 घंटे में एंट्री, सभी गोदामों की करवाई जाएगी Geo Tagging

प्रातिक्रिया दे