Breaking News

कोरोना नियमों की अनदेखी पर सरकार करेगी सख्त कार्रवाई: अशोक गहलोत

Jaipur: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने कहा कि कोरोना की जीती हुई जंग हम हार नहीं जाएं, इसके लिए जरूरी है कि कोरोना की शुरुआत के समय जो सतर्कता और सजगता हमने बरती उसे हम निरंतर बरकरार रखें. उन्होंने कोरोना की दूसरी लहर की आशंका के मददेनजर लोगों को चेताते हुए कहा कि किसी भी व्यक्ति को लापरवाही की इजाजत नहीं है. प्रदेश में मास्क पहनने की अनिवार्यता का कानून लागू है. सभी लोग इसका
पालन आवश्यक रूप से करें. अगर लोग लापरवाही करेंगे तो सरकार और भी सख्त कदम उठाएगी.

Ashok Gehlot ने कहा कि हमारी सावधानी ही इस चुनौती से निपटने का सबसे कारगर उपाय है. अब तक हमारा कोरोना प्रबंधन पूरे देश में बेमिसाल रहा है. हर वर्ग के सहयोग से राज्य सरकार आगे भी इस जंग को बेहतरीन तरीके से लड़ेगी.

सीएम गहलोत ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री निवास पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कोविड-19 को लेकर धर्मगुरूओं, जनप्रतिनिधियों, राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों, सोशल एक्टिविस्टों तथा गैर सरकारी संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ संवाद किया. उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष जब कोरोना संकमण आया तो सभी वर्गों ने आगे बढ़कर इस चुनौती से सामना करने में सहयोग किया. इसी का परिणाम रहा कि राजस्थान कोविड से निपटने में सबसे आगे रहा. यहां रिकवरी दर सबसे अच्छी होने के साथ ही मृत्यु दर काफी कम रही.

मुख्यमंत्री ने कहा कि बीते कुछ दिनों में देश के कई राज्यों में कोरोना का संकमण तेजी से बढ़ा है. राजस्थान में भी पॉजिटिव केस बढ़े हैं. उन्होंने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर के कारण दुनिया के कई देशों और भारत के कई शहरों में तो फिर से लॉकडाउन लगाना पड़ा है. प्रदेश में ऐसी स्थिति नहीं बने और जीवन रक्षा के साथ-साथ हमारी आजीविका सुचारू रूप से चलती रहे, इसके लिए जरूरी है कि हम सोशल डिस्टेसिंग, मास्क पहनने, हाथ धोने जैसे कोविड अनुशासन की आवश्यक रूप से पालना सुनिश्चित करें.

Ashok Gehlot ने कहा कि राजस्थान अब तक वैक्सीनेशन में सबसे आगे रहा है. हमें इस काम को और तेजी से आगे बढ़ाना होगा. हालांकि, यह कार्य वैक्सीन की अधिक आपूर्ति से ही संभव हो सकेगा. उन्होंने अपील की कि वैक्सीनेशन के प्रति जागरूकता लाने के लिए सभी अपनी जिम्मेदारी निभाएं. साथ-साथ लोगों को दूसरी लहर को लेकर भी जागरूक करें, ताकि वे किसी तरह की ढिलाई नहीं बरतें.

वहीं, विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी ने कहा कि मुख्यमंत्री ने एक बार फिर सभी वर्गों को साथ लेकर इस संकट से निपटने की महत्वपूर्ण पहल की है. उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण का वैज्ञानिक विश्लेषण कर उसके अनुरूप कदम उठाए जाने चाहिए. ताकि इस बीमारी की रोकथाम के साथ-साथ इसके आर्थिक एवं सामाजिक दुष्प्रभावों से बचा जा सके.

शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि आमजन को अपने व्यवहार में बदलाव लाने की आवश्यकता है. उन्होंने कहा कि कोविड के मामले कम होने के बाद प्रोटोकॉल के पालन में लापरवाही सामने आई है. हमें इस स्थिति से बचना होगा. उन्होंने कहा कि ऐसे प्रयास किए जाना जरूरी हैं, जिससे संक्रमण का फैलाव रूके और जरूरी गतिविधियां भी बाधित नहीं हों.

भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष एवं विधायक सतीश पूनिया ने कहा कि इस बीमारी से लड़ाई का लंबा अनुभव हमारे साथ है. कोरोना के संकमण को रोकने के लिए हम सभी सरकार के साथ मिलकर प्रदेशवासियों के जीवन की रक्षा में कोई कमी नहीं रखेंगे. उप नेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने कहा कि कोरोना संकमण की रोकथाम के लिए आईईसी गतिविधियों को बढ़ाया जाए. उन्होंने गांव-ढाणी तक लोगों को ग्राम सभा के माध्यम से जागरूक करने का सुझाव दिया. साथ ही सैंपलिंग और कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग भी पहले की तरह ही प्रभावी रूप से हो.

इससे पहले चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सचिव सिद्धार्थ महाजन ने बताया कि प्रदेश में एक्टिव केसेज की संख्या बढ़कर करीब 3 हजार हो गई है. कुछ दिनों से पॉजिटिव केसेज लगातार बढ़ रहे हैं. शुक्रवार को 402 नए पॉजिटिव मामले सामने आए हैं. विभाग ने जिला स्तर तक स्वास्थ्य अधिकारियों को सेम्पलिंग बढ़ाने, कान्टेक्ट ट्रेसिंग और मरीजों के इलाज की समुचित व्यवस्था के साथ-साथ संक्रमण को रोकने के लिए माइक्रो मैनेजमेंट करने के निर्देश दिए हैं.

One thought on “कोरोना नियमों की अनदेखी पर सरकार करेगी सख्त कार्रवाई: अशोक गहलोत

प्रातिक्रिया दे