Breaking News

Sita Eliya:लंका में जहां सीता मैया थीं कैद, राम मंदिर में लगाया जाएगा वहां का पत्थर

फैजाबाद: अयोध्या में राम मंदिर (Ayodhya Ram Mandir)  निर्माण का कार्य तेजी से हो रहा है. श्री राम जन्मभूमि परिसर में राम मंदिर की बुनियाद की खुदाई का काम खत्म हो गया है. पूजा-पाठ के बाद नींव भराई का काम भी शुरू हो गया है. ट्रस्ट की मानें तो अगस्त के आखिरी हफ्ते तक नींव भराई का काम खत्म हो जाएगा.  सीता मैया के बिना भगवान राम को अधूरा माना जाता है. ऐसे में श्रीलंका के सीता एलिया (Sita Eliya) से एक पत्थर लाया जा रहा है. इस पत्थर का इस्तेमाल अयोध्या मे हो रहे भव्य  राम मंदिर निर्माण में किया जाएगा. धर्मग्रंथ रामायण के मुताबिक श्रीलंका में यही वह जगह है, जहां रावण माता सीता को बंदी बनाकर रखा था.

क्या है सीता एलिया
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, सीता एलिया श्री लंका में स्थित वह स्थान है जहां रावण ने माता सीता को बंदी बना कर रखा था. माता सीता को सीता एलिया में अशोक वाटिका में रखा गया था. वर्तमान में इस स्थान पर एक मंदिर है, जिसे ‘सीता अम्मन कोविले’ नाम से जाना जाता है. यह स्थान न्यूराएलिया से उदा घाटी तक जाने वाली एक मुख्य सड़क पर साढ़े तीन मील की दूरी पर स्थित है.

यहां पर रावण ने उतारा था पुष्पक विमान 
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार रावण पुष्पक विमान पर सीता को हरकर लंका ले गया था. माना जाता है कि रावण जहां सीता माता के साथ पुष्पक विमान लेकर उतरा वह हवाईपट्टी वेरांगोट्टा में स्थित है. मध्य श्रीलंका में नुवारा एलिया हिल स्टेशन के पूरब माहियांगाना से वेरांगोट्टा करीब तीन मील की दूरी पर स्थित है.

इसके बाद रावण सीता को गूरुलुपोट्टा ले गया, जिसे अब सीताकोटुवा के नाम से जाना जाता है. यहां रावण की पत्नी मंदोदरी का निवास हुआ करता था. माहियांगाना से सीताकोटुवा की दूरी करीब तीन मील पर है. यह श्रीलंका के मशहूर शहर कैंडी जाने वाले रास्ते में पड़ता है.पौराणिक कथाओं के अनुसार सीता माता को एक गुफा में रखा गया था, जो सीता एलिया नाम की जगह पर है. माता सीता का एक मंदिर भी यहां पर मौजूद है.

यहां पर भगवान राम ने की थी पूजा 
नुवारा एलिया के उत्तर में माताले जिला है. यहां युधागनापीटिया नाम की जगह है, जहां भगवान राम और प्रचंड ब्राह्मण रावण के बीच युद्ध हुआ था. सिंहली मान्यताओं के मुताबिक, दुनुविला नामक जगह से राम ने रावण पर बाण चलाया, जिससे उसकी मौत हुई. इनके अलावा चिलाव में वह मंदिर है जहां रावण वध के बाद भगवान राम ने पूजा की थी.

पत्नी के चरित्र पर था शक, हत्या करने के बाद बोला- कर दिया था जीना दुश्वार
इसको बोलते हैं प्यार! मुर्गे ने मुर्गी को कराई ठेले की सवारी, VIRAL VIDEO देख नहीं रोक पाएंगे हंसी
डासना मंदिर से बोर्ड हटाने को लेकर बोले महंत- किसी भी कीमत पर नहीं हटाएंगे
अपना दुख बयां करते हुए SP ऑफिस में फफक-फफक कर रो पड़ा जवान, जानिए क्या है मामला
उम्रकैद की सजा पाए कैदी ने खुद को घोषित किया मृत, 15 साल बाद जिंदा गिरफ्तार

प्रातिक्रिया दे