Breaking News

रात 10 से सुबह 6 बजे तक नहीं बजेंगे लाउडस्पीकर, IG प्रयागराज रेंज ने दिए निर्देश

प्रयागराज: मस्जिदों से लाउडस्पीकर से तेज आवाज में अजान पर मचे कोहराम के बाद आईजी प्रयागराज रेंज के पी सिंह ने रेंज के चारों जिलों के डीएम और एसएसपी को एक पत्र भेजा है. उन्होंने पत्र के जरिए पॉल्यूशन एक्ट, हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों का सख्ती से पालन कराने को भी कहा है. जिसके तहत रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक पूरी तरह से लाउडस्पीकर बजाने या अन्य किसी पब्लिक ऐड्रेस सिस्टम के इस्तेमाल पर पाबंदी रहेगी.

ये भी पढ़ें- यूपी पंचायत चुनाव 2021: BJP की तैयारियां तेज, गांव में चौपाल लगाकर टटोली जा रही मतदाताओं की नब्ज

लाउडस्पीकर से अजान कराने की मांग को दाखिल हुई थी जनहित याचिका
जानकारी के मुताबिक बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के भाई और गाजीपुर से बसपा सांसद अफजाल अंसारी ने पिछले साल इलाहाबाद हाईकोर्ट में लाउडस्पीकर से अजान की मांग को लेकर एक जनहित याचिका दाखिल की थी. जिस पर इलाहाबाद हाई कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए कहा था कि अजान इस्लाम का धार्मिक हिस्सा है, लेकिन लाउडस्पीकर नहीं है. कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि लोगों को बिना ध्वनि प्रदूषण नींद का अधिकार है. यह जीवन के मूल अधिकार में शामिल है. किसी को भी अपने मूल अधिकारों के लिए दूसरे के मूल अधिकारों का उल्लंघन करने का अधिकार नहीं है.

ये भी पढ़ें- जन्म से लेकर ग्रेजुएशन तक बेटी को मिलते हैं इतने रुपये, जानें क्या है ‘मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना’

मंदिर हो या मस्जिद सबको करना होगा नियम का पालन
आईजी के मुताबिक पॉल्यूशन एक्ट में भी रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक लाउडस्पीकर बजाने की मनाही है. हालांकि शादी, विवाह या बंद कमरे में पार्टी जैसे आयोजनों पर विशेष अनुमति लेकर रात 12 बजे तक निश्चित वॉल्यूम में लाउडस्पीकर बजाने की अनुमति दी जा सकती है. आईजी ने कहा है कि पॉल्यूशन एक्ट, हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों के तहत सभी धार्मिक स्थलों पर चाहे वह मंदिर हो या मस्जिद रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक तेज आवाज में लाउडस्पीकर या किसी दूसरे ध्वनि विस्तारक यंत्र से आवाज नहीं होगी, जिससे लोगों की पर्सनल लाइफ डिस्टर्ब हो.

ये भी पढ़ें- क्या कभी सोचा है, पैरों में पहने जाने वाली स्लीपर को ‘हवाई चप्पल’ क्यों कहते हैं?

ये अधिकारी नियमों का पालन कराना सुनिश्चित करेंगे
आईजी के पी सिंह ने कहा कि डीएम, एसएसपी और पॉल्यूशन बोर्ड के अधिकारी यह सुनिश्चित करेंगे कि बगैर अनुमति के कोई भी किसी पब्लिक ऐड्रेस सिस्टम या माइक से तेज आवाज में तय समय के अंदर कोई भी अनाउंसमेंट ना करे. इसके अलावा दिन में भी एक निश्चित वॉल्यूम में ही पब्लिक ऐड्रेस सिस्टम का इस्तेमाल किया जाएगा. लेकिन रात में पूरी सख्ती से इसे रोका जाएगा.

ये भी पढ़ें- Aadhaar Card से ऐसे लिंक करें मोबाइल नंबर, नहीं लगेगा कोई डॉक्यूमेंट, करना होगा ये काम

इलाहाबाद विवि की कुलपति ने लिखा था पत्र 
गौरतलब है कि इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी की कुलपति प्रोफेसर संगीता श्रीवास्तव ने तीन मार्च को क्लाइव रोड की मस्जिद से लाउडस्पीकर की तेज आवाज में अजान से नींद में खलल को लेकर डीएम प्रयागराज को पत्र लिखा था. उन्होंने इस पत्र की कॉपी कमिश्नर आईजी और डीआईजी को भी भेजी थी. लेकिन मामले के तूल पकड़ने से पहले मस्जिद की इंतजामिया कमेटी ने खुद आगे बढ़कर पहल की और लाउडस्पीकर की आवाज कम कर दी. इसके साथ ही लाउडस्पीकर की दिशा भी कुलपति के आवास की ओर से बदल दी. इसी मामले को संज्ञान लेते हुए आईजी ने प्रयागराज रेंज के सभी जनपदों को यह पत्र जारी कर सख्ती बरतने का अधिकारियों को निर्देश दिया है.

ये भी देखें- Viral Video: सामने बैठा रहा लकड़बग्घा, फिर भी बब्बर शेरों ने नहीं किया शिकार

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *