Breaking News

Tonk News : टेंशन बढ़ा रही 'खराब हवा ये है प्रदूषण फैलने का सबसे बड़ा कारण

Tonk : सरकार प्रदूषण (Pollution) रोकने के लिए भले ही तमाम कोशिशें कर रही है, लेकिन हकीकत ये है कि कई जगह खुलेआम इन नियमों की धज्जियां उड़ाई जा रही है. टोंक (Tonk News) के निवाई औद्योगिक क्षेत्र में कई कंपनियां नियमों का उल्लंघन कर प्रदूषण (Pollution in Rajasthan) फैला रही है. जबकि प्रशासन प्रदूषण (Pollution in Tonk) को रोकने में नाकाम साबित हो रहा है. कुछ कंपनियां नियम कायदे ताक पर रखकर प्रदूषण (Rajasthan State Pollution) फैला कर लोगों की जिंदगियों से खेल रही है.

ये भी पढ़ें: टोंक में नाबालिग बच्चों को पेड़ पर बांधकर पिटाई, 6 लोग गिरफ्तार

फैक्ट्रियों (Factories) से निकलने वाला धुंए से लोगों को कई प्रकार की श्वास से जुड़ी बीमारियां हो रही हैं. औद्योगिक क्षेत्र में फैक्ट्रियों से निकलने वाला जहरीला पानी नाला टूटने की वजह से खाली भूखंडों पर भरा हुआ है. गंदे पानी की वजह से डेंगू जैसी गंभीर बीमारियां होने का खतरा हमेशा बना रहता है. हालात ये है कि गंदे पानी पीने की वजह से कई मवेशियों की मौत हो चुकी है. स्थानीय लोगों ने आरोप लगाया कि रीको कार्यालय (RIICO Rajasthan) के कर्मचारियों से कंपनी मालिकों की मिलीभगत है. जिसकी वजह से अधिकारी कोई कार्रवाई नहीं करते हैं.

वनस्थली मोड़ निवासी सूरजमल शर्मा ने बताया कि औद्योगिक क्षेत्र में गंदा पानी भरा होने की वजह से गंभीर बीमारियां हो रही है, निजी ट्यूबवेलों का पानी खराब हो चुका है. तिरुपति बिहार कालोनीवासी अशोक जांगिड़ ने बताया कि पानी प्रदूषित पानी (Water Pollution in Rajasthan) होने के कारण वहां से आने जाने वाले राहगीरों को दुर्गंध का सामना करना पड़ता है एवं पीने का पानी बेकार हो चुका है कई बार प्रदूषित पानी में कहीं जानवर गिर चुके हैं, जिससे उनकी मौत भी हो चुकी है. इस मुद्दे पर रीको कार्यालय के मैनेजर सीताराम मीणा से फोन पर संपर्क करने की कोशिश की किन्तु उन्होंने फोन नहीं उठाया.

उपखंड अधिकारी त्रिलोक चंद मीणा से पुछने पर उपखंड अधिकारी ने बताया कि उक्त मामले की जानकारी करवा कर कार्रवाई की जाएगी. दम तोड़ते मवेशी और गम्भीर बिमारियों से जूझते स्थानीय बाशिंदों की पीड़ा को कोई सुनने वाला दिखाई नहीं दे रहा है. ऐसे में सवाल यह उठता है पर्यावरण सुरक्षा, सरंक्षण और स्वच्छ रखने का प्रमाण पत्र हासिल करने वाली इन पुंजीपतियों की कंपनियों पर कार्रवाई कब होगी और लापरवाह अफसरोंं पर कब नकेल कसी जाएगी.

ये भी पढ़ें: टोंक जेल में चल रहा चौथ वसूली का गोरखधंधा, 6 शिकायतों के बाद भी कार्रवाई नहीं

प्रातिक्रिया दे