Breaking News

Rajasthan में पंचवर्षीय योजना साबित हो रहा SI Recruitment 2016, बेरोजगार परेशान

Jaipur: प्रदेश में होने वाली भर्तियां (Recruitments) मानों पंचवर्षीय योजना (Five yearly plan) साबित हो रही हैं. पहले विज्ञप्ति, फिर परीक्षा, फिर परिणाम, फिर विवाद, उसके बाद कोर्ट और अंत में नियुक्ति के लिए लम्बा होता इंतजार प्रदेश के लाखों बेरोजगारों के लिए एक बड़ी समस्या बन चुकी है.

यह भी पढ़ें- Rajasthan: SI भर्ती 2016 में पदों को किया गया कम, अब भटक रहे अभ्यर्थी

प्रदेश में ऐसी दर्जनों भर्तियां हैं, जिनको अंगुलियों पर गिनाया जा सकता है. प्रदेश में कानून व्यवस्था (Law & Order) का जिम्मा संभालने का सपना देखने वाले युवा भी इस पंचवर्षीय योजना का सामना कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें- Rajasthan: SI भर्ती 2016 में कम किए गए 227 पदों को जोड़ने की मांग को लेकर आंदोलन तेज

साल 2016 में पुलिस उप निरीक्षक (Police sub inspector) के 330 पदों पर भर्ती विज्ञप्ति जारी की गई. इस भर्ती का इंतजार प्रदेश के बेरोजगार पिछले 6 सालों से कर रहे थे क्योंकि इससे पहले साल 2010 में निकाली गई थी. 330 पदों पर निकाली गई इस भर्ती की परीक्षा होने में भी 2 साल का समय बीत गए. 2018 में परीक्षा और साल 2019 में उत्तीर्ण अभ्यर्थियों की शारीरिक दक्षता परीक्षा (Physical efficiency test) आयोजित हुई और 1 साल बाद सफल अभ्यर्थियों के साक्षात्कार हुए.

सितम्बर 2020 में अंतिम परिणाम आरपीएससी द्वारा पुलिस मुख्यालय भी भेज दिया गया. भर्ती प्रक्रिया के दौरान ही पदों की संख्या 330 को बढ़ाते हुए 511 कर बेरोजगारों के एक और बड़ी राहत दी गई. करीब 1 महीने पहले पूरी हो चुकी प्रक्रिया के बाद भी आज तक चयनित अभ्यर्थियों दर-दर की ठोकरें खाने के लिए मजबूर हैं.

मुख्य बिंदु
प्रदेश में एसआई भर्ती 2016 हो रही पंचवर्षीय योजना साबित
2016 में निकाली गई भर्ती को 5 साल बाद भी पूरा होने का इंतजार
330 पदों पर निकाली गई थी पुलिस उप निरीक्षक पदों पर भर्ती
साल 2018 में परीक्षा और साल 2019 में हुई शारीरिक दक्षता परीक्षा
साल 2020 में इंटरव्यू, सितम्बर 2020 में हुए अंतिम चयन सूची की जारी
आरपीएससी ने अंतिम चयन सूची भेजी पुलिस मुख्यालय भी
लेकिन 6 महीने बाद भी आज तक जारी नहीं हुए हैं नियुक्ति आदेश
नियुक्ति की मांग को लेकर दर-दर भटक रहे चयनित अभ्यर्थी

नियुक्ति के लिए बेरोजगार लगा रहे गुहार
पिछले 5 सालों से भर्ती को पूरा होने का इंतजार कर रहे बेरोजगार दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर हो गए हैं. साथ ही नियुक्ति के लिए हर चौखट पर गुहार लगा रहे हैं. भर्ती में चयनित अभ्यर्थी गिरिराज चौधरी (Giriraj Chaudhary) का कहना है कि “इससे पहले साल 2010 में एसआई पदों पर भर्ती हुई थी और उसके बाद साल 2016 में भर्ती निकाली गई थी लेकिन इस भर्ती को निकाले भी 5 सालों का लम्बा समय हो गया है. भर्ती को लेकर हर प्रक्रिया देरी से होने की वजह से 5 साल लग गए तो वहीं 6 महीने पहले सभी प्रक्रिया पूरी होने के बाद भी अभी तक नियुक्ति आदेश जारी नहीं किए गए हैं. ऐसे में जल्द से जल्द सरकार नियुक्ति आदेश जारी करे जिससे 511 घरों को नियुक्ति की सौगात मिल सके.

पिछले 10 सालों से कानून व्यवस्था संभालने का सपना देखने वाले बेरोजगारों अब हताश होने लगे हैं. भर्ती में चयनित अभ्यर्थी बृजपाल सिंह और राधेश्याम मीणा का कहना है कि “इस भर्ती के लिए पिछले 10 सालों से तैयारी कर रहे हैं. जयपुर में रहकर तैयारी इतनी महंगी है कि अब घरवाले भी ताने देने लगे हैं, 10 सालों से तैयारी करने की वजह से अब किसी अन्य परीक्षा की तैयारी नहीं कर पा रहे हैं तो वहीं अब ओवरएज के करीब भी आ गए हैं. ऐसे में अब जल्द से जल्द नियुक्ति आदेश जारी हो तो मानसिक प्रताड़ना का दौर भी खत्म हो.”

बहरहाल, पहले पदों की संख्या बढ़ाने के विवाद में उलझी एसआई भर्ती 2016 अब पूरी तरह से विवादों से निकल चुकी है और अब इंतजार है सिर्फ नियुक्ति आदेश जारी होने का. ऐसे में देखना होगा कf ये पंचवर्षीय भर्ती कितना समय और लेती है?

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *