Breaking News

परिवार पर 160 केस; जिले में दहशत, विकास दुबे से कम नहीं है कन्नौज वाले राठौर का आतंक

कन्नौज: कुख्यात गैंगस्टर विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद प्रदेश एक खूंखार अपराधी से मुक्त जरूर हो गया, लेकिन ऐसे कई खतरनाक लुटेरे और हिस्ट्रशीटर अभी भी मौजूद हैं, जिन्होंने पुलिस की नाक में दम कर रखा है. साथ ही, देशवासियों के लिए भी ये बहुत बड़ा खतरा हैं. ऐसे ही एक कुख्यात बगमाश को मध्य प्रदेश की भिंड पुलिस ने धर दबोचा है. इस लुटेरे का ताल्लुक उत्तर प्रदेश से है और इसकी क्राइम हिस्ट्री सुनकर शायद आप भी हैरान रह जाएं.

ये भी पढ़ें: नहीं छोड़ना पड़ेगा अब अपना घर-बार, योगी सरकार छोटे शहरों में ऐसे देगी रोजगार

बदमाश के परिवार पर 160 केस दर्ज
पकड़े गए लुटेरे का नाम राहुल राठौर बताया जा रहा है. यह लुटेरा कन्नौज के एक ऐसे परिवार से आता है, जिसके कई सदस्यों पर हत्या, लूट और उगाही के लगभग 160 केस दर्ज हैं. प्रदेश भर के कई थानों की पुलिस इसे ढूंढ रही थी.

पूरे परिवार का है कन्नौज में खौफ
कुख्यात राहुल राठौर के तीन भाई पहले से ही जेल की हवा खा रहे हैं. उसका एक और भाई था, जिसे पुलिस ने एनकाउंटर में मार गिराया था. बताया जा रहा है पूरे कन्नौज में राहुल राठौर के परिवार का खौफ है. कन्नौज जिले के छिबरामऊ के उस्मानपुर गांव में रहने वाले राहुल राठौर के परिवार ने जिले भर में आतंक मचाया हुआ है.

ये भी पढ़ें: क्या जानते हैं Aloe vera के अमेजिंग फायदे, गिनते-गिनते थक जाएंगे

पुलिस जानकारी के मुताबिक, बदमाश राहुल का सबसे बड़ा भाई धर्म सिंह उर्फ धरमा पर 38 मामले दर्ज हैं. उसका दूसरा भाई अजय राठौर उर्फ मिंटो 24 आपराधिक मामलों में नामजद है. तीसरा भाई टिल्लू था, जो पुलिस मुठभेड़ में मारा गया. टिल्लू इन सभी भाइयों में सबसे खूंखार था. उसके ऊपर 50 से ज्यादा केस हैं. चौथा भाई संजू राठौर है, जिसपर 20 मामले दर्ज हैं. इसके अलावा, राहुल के भतीजे (मिंटो के बेटे) पर भी 10 केस फाइल्ड हैं.

कुख्यात भाइयों की विकास दुबे से की जा रही तुलना 
भिंड में पकड़ा गया राहुल दो साल से बिना किसी डर के लूटपाट को अंजाम दे रहा था. इस क्राइम में उसके दो साथी भी उसकी मदद करते थे. जानकारी के मुताबिक, मौजूदा समय में राहुल राठौर पर 32 केस दर्ज हैं. पुलिस का मानना है कि कन्नौज के ये भाई ‘कानपुर वाले विकास दुबे’ से कम नहीं हैं.

ये भी पढ़ें: क्यों गर्भवती महिलाओं और नई मां के लिए संजीवनी है मोदी सरकार की Matri Vandana Yojana

कई वारदातों के सामने आने पर पुलिस को हुआ शक
दरअसल, पिछले 2 साल से भिंड के लहार विधानसभा क्षेत्र के कई थानों में लूटपाट की शिकायतें आ रही थीं. कुल 6 मामलों में वारदात का तरीका एक जैसा पाया गया. पता चला कि इन सभी वारदातों में लुटेरे एक जैसी ही बाइक से आए और हमेशा ही इनकी संख्या 3 रहती थी. इसके बाद पुलिस को क्राइम सीन पर एक सुराग ऐसा मिला जिसका कनेक्शन कन्नौज में राहुल के गांव से निकला. पुलिस ने प्लानिंग कर ‘ऑपरेशन लूट’ की शुरुआत की और कई बदमाशों से पूछताछ भी की.

मिशन लूट की कामयाबी के लिए 27 बार कन्नौज गई पुलिस
ऑपरेशन लूट को सफल बनाने के लिए पुलिस ने सुराग के जरिए पाए गए शहर (कन्नौज) जाने का फैसला किया. इसके बाद पुलिस करीब 27 बार कन्नौज के छिबरामऊ पहुंची. फिर पुलिस ने राहुल के परिवार की हिस्ट्रीशीट निकाली और बदमाशों के मूवमेंट को ट्रैक करना शुरू किया. जब बदमाशों को इसकी भनक लगी कि पुलिस अब उनके पीछे पड़ गई है, तो वह अंडरग्राउंड हो गए. लेकिन भिंड पुलिस ने हार नहीं मानी और बदमाशों की तलाश में लगी रही. कड़ी जांच-पड़ताल के बाद बीते सोमवार राठौर को छिबरामऊ से ही दबोच लिया गया.

ये भी पढ़ें: आ गई UP पंचायत चुनाव की शुभ घड़ी, चुनाव आयोग की डीएम-SP के साथ अहम बैठक में हो सकता है ऐलान

भाभी को पंचायत चुनाव में कर रहा है खड़ा
पंचायत चुनाव लड़मे के लिए यह जरूरी है कि आप आपराधिक पृष्ठभूमि से न आते हों. लेकिन राहुल राठौर अपनी भाभी को पंचायत सदस्य का चुनाव लड़ाने जा रहा था. पुलिस ने उसे तभी पकड़ा, जब वह अपनी भाभी के पोस्टर छपवा रहा था. पुलिस ने बताया कि राहुल को पकड़ने के बाद भी वह चौड़ में ही था और पुलिस को धमकी दी कि भाभी तो चुनाव लड़ कर ही रहेंगी.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *